Monday, November 28, 2022
Advertisement

अच्छी सेहत के लिए बहुत जरूरी है यूरोलॉजिकल हेल्थः डा. विकास कुमार

यूरोलॉजिस्ट डा. विकास कुमार ने जनहित में दी विशेष जानकारी वाराणसी। यूरोलॉजिकल हेल्थ यानी मूत्र संबंधी स्वास्थ्य सेहत के लिए बहुत जरूरी है। अक्सर लोग पूछते हैं कि यूरोलॉजी क्या है तो बता दें कि यूरोलॉजी एक मेडिसिन स्पेशिलिटी है यानी विशेषज्ञता। यह यूरिनरी ट्रेक जैसे किडनी, यूट्रस, ब्लैडर वगैरह से जुड़ी समस्याओं से सम्बन्धित है। यूरोलॉजिकल बीमारियां यानी मूत्र संबंधी रोग सभी उम्र के लोगों को प्रभावित कर सकता है। उक्त बातें सरस्वती यूरो केयर पहड़िया वाराणसी के संचालक एवं वरिष्ठ यूरोलॉजिस्ट डा. विकास कुमार ने एक भेंट के दौरान कही। उन्होंने मूत्र रोगों के इलाज, कारण और बचाव के उपायों के बारे में बताया कि ऐसे बहुत से काम हैं जिसे करके आप बेहतर यूरिनरी हेल्थ पा सकते हैं। हेल्दी यूरिनरी ट्रैक के लिए कुछ बातों का ध्यान रखना होगा। अच्छी तरह से हाइड्रेटेड रहें, जलवायु परिस्थितियों के आधार पर एक दिन में 3 से 4 लीटर पानी का सेवन करना चाहिए यदि गुर्दे सामान्य रूप से काम कर रहे हैं। अपशिष्ट पदार्थ ज्यादातर मूत्र के माध्यम से ही शरीर से बाहर जाते हैं। इसलिए जब आप ज्यादा पानी पीते हैं तो टॉक्सिन्स बाहर निकलने में मदद करती है। इस तरह आप ज्यादा पानी पीकर शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकाल सकते हैं। क्रैनबेरी जूस यूटीआई को कम करने में मदद करता है। डा. कुमार ने बताया कि नमक, कैफीन और एल्कोहल का सेवन कम करें। शराब और कैफीन दोनों ही मूत्रवर्धक के रूप में काम करते हैं जिससे यूरिनरी ब्लैडर की लाइनिंग में जलन की समस्या हो सकती है और बार-बार पेशाब करने की इच्छा बढ़ जाती है। अच्छा और संतुलित आहार पर विशेष ध्यान दें। अगर आपका बीएमआई ज्यादा है तो वजन कम करें। धूम्रपान बंद करें। श्रोणि की मांसपेशियों को मजबूत करने के लिए व्यायाम करें। इसके लिए किगल व्यायाम बहुत ही सही होता है। लंबे समय तक मूत्र को रोकने की आदत छोड़ दें। बच्चों को सही तरह से टॉयलेट ट्रेनिंग दें। रात में सोने से पहले तरल पदार्थ का सेवन कम करें।

यूरोलॉजिस्ट डा. विकास कुमार ने जनहित में दी विशेष जानकारी

वाराणसी। यूरोलॉजिकल हेल्थ यानी मूत्र संबंधी स्वास्थ्य सेहत के लिए बहुत जरूरी है। अक्सर लोग पूछते हैं कि यूरोलॉजी क्या है तो बता दें कि यूरोलॉजी एक मेडिसिन स्पेशिलिटी है यानी विशेषज्ञता। यह यूरिनरी ट्रेक जैसे किडनी, यूट्रस, ब्लैडर वगैरह से जुड़ी समस्याओं से सम्बन्धित है। यूरोलॉजिकल बीमारियां यानी मूत्र संबंधी रोग सभी उम्र के लोगों को प्रभावित कर सकता है। उक्त बातें सरस्वती यूरो केयर पहड़िया वाराणसी के संचालक एवं वरिष्ठ यूरोलॉजिस्ट डा. विकास कुमार ने एक भेंट के दौरान कही।जौनपुर। जनपद में विशेष संचारी अभियान 01 से 31 जुलाई तक चलाया जा रहा है। जिसके अन्तर्गत नगर पालिका द्वारा भण्डारी, नईगंज, जहांगीराबाद, उमरपुर, ओलंदगंज, नखास सहित विभिन्न स्थानों पर एण्टी लार्वा, फागिंग एवं सैनिटाइजेशन का कार्य कराया गया। पशु चिकित्सा अधिकारियों के द्वारा सूअर पालकों को संचारी रोग अभियान के अंतर्गत साफ-सफाई एवं सूकरों को गांव से बाहर सूकर वाड़ा बनवाकर रखने के लिए प्रेरित किया गया। मुख्य पशुचिकित्सा अधिकारी ने कहा कि सूकर पालक गांव से बाहर अपना सूकर वाड़ा बनवाये और वहीं पर सूकर पालन करें। पंचायती राज विभाग द्वारा ग्रामीण क्षेत्रों में नालियों, झाड़ियों एवं चकरोड की साफ-सफाई, एण्टी लार्वा एवं ब्लीचिंग पाउडर का छिड़काव, शौचालयों के प्रयोग के लिए प्रेरित करना आदि कार्य किया गया। साथ ही संचारी रोग के बारे में लोगों को जागरूक किया गया। आईसीडीएस विभाग द्वारा मातृ समिति की बैठक की गई। वहीं कृषि विभाग द्वारा किसान जागरूकता गोष्ठी का आयोजन किया गया।

उन्होंने मूत्र रोगों के इलाज, कारण और बचाव के उपायों के बारे में बताया कि ऐसे बहुत से काम हैं जिसे करके आप बेहतर यूरिनरी हेल्थ पा सकते हैं। हेल्दी यूरिनरी ट्रैक के लिए कुछ बातों का ध्यान रखना होगा। अच्छी तरह से हाइड्रेटेड रहें, जलवायु परिस्थितियों के आधार पर एक दिन में 3 से 4 लीटर पानी का सेवन करना चाहिए यदि गुर्दे सामान्य रूप से काम कर रहे हैं। अपशिष्ट पदार्थ ज्यादातर मूत्र के माध्यम से ही शरीर से बाहर जाते हैं। इसलिए जब आप ज्यादा पानी पीते हैं तो टॉक्सिन्स बाहर निकलने में मदद करती है। इस तरह आप ज्यादा पानी पीकर शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकाल सकते हैं। क्रैनबेरी जूस यूटीआई को कम करने में मदद करता है।चंदन अग्रहरि शाहगंज, जौनपुर। कोतवाली क्षेत्र के एक गांव में चार फरवरी को 11 वर्षीय नाबालिग के साथ उसके ही बड़े पिता के पुत्र ने दुराचार किया। घटना के छ: महीने बाद पुलिस अधीक्षक के संज्ञान लेने पर पुलिस ने केस दर्ज कर आरोपी को गिरफ्तार किया। मामले में हल्का दरोगा की मिलीभगत की चर्चा जोरों पर है। छ: महीने पहले नाबालिग को घर में अकेला पाकर उसके ही रिश्ते के भाई ने दुराचार कर रिश्ते को कलंकित किया। पीड़ित किशोरी ने आपबीती परिजनों को बताई तो परिजन न्याय की गुहार लगाने थाने पहुंचे। तत्कालीन हल्का दरोगा शितलू राम ने मुकदमा दर्ज करने के लिए कोतवाल का निर्देश चाहा। जिस पर तत्कालीन कोतवाल जयप्रकाश सिंह ने दरोगा का हलका बदलकर अपने चहेते को जिम्मेदारी दी। आरोप है कि पहले थाने से पीड़ित को समझा बुझाकर थाने से बैरंग लौटा दिया गया। लेकिन पीड़िता के परिजनों के दबाव बनाने पर हलका दरोगा जितेंद्र बहादुर सिंह ने आरोपी का पक्ष लेते हुए थाने में दोनों पक्षों को बैठाकर जबरिया समझौता करा दिया। एक तरफा कार्यवाही से आजिज परिवार ने मुख्य मंत्री शिकायत पोर्टल पर अपनी शिकायत दर्ज कर न्याय की गुहार लगाई। परिवार के लोग पीड़िता को लेकर पुलिस अधीक्षक के दरबार पहुंचे जहां हल्का दरोगा और तत्कालीन कोतवाल की कारस्तानियां बताई। मामले को गंभीरता से लेते हुए एसपी ने पुलिस अधीक्षक नगर को मामले की जांच का निर्देश दिया। बुधवार की रात एसपी सिटी, क्षेत्राधिकारी जितेंद्र कुमार दुबे पीड़िता के घर पहुंचकर मामले की जांच करते हुए घटना में केस दर्ज कर कार्यवाही का निर्देश दिया। पुलिस ने आरोपी विवेक कुमार पुत्र मुकेश पर दुराचार एवं पक्सो अधिनियम की धारा में मामला दर्ज किया। शुक्रवार को पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर चालान न्यायालय भेज दिया। मामले में क्षेत्राधिकारी जितेंद्र कुमार दुबे ने बताया कि परिवार से जुड़ा मामला था। जिसमें दोनों पक्ष सुलह समझौता कर चुके थे। बाद में पीड़ित परिवार के न मानने पर पुलिस ने कार्यवाही की।

डा. कुमार ने बताया कि नमक, कैफीन और एल्कोहल का सेवन कम करें। शराब और कैफीन दोनों ही मूत्रवर्धक के रूप में काम करते हैं जिससे यूरिनरी ब्लैडर की लाइनिंग में जलन की समस्या हो सकती है और बार-बार पेशाब करने की इच्छा बढ़ जाती है। अच्छा और संतुलित आहार पर विशेष ध्यान दें। अगर आपका बीएमआई ज्यादा है तो वजन कम करें। धूम्रपान बंद करें। श्रोणि की मांसपेशियों को मजबूत करने के लिए व्यायाम करें। इसके लिए किगल व्यायाम बहुत ही सही होता है। लंबे समय तक मूत्र को रोकने की आदत छोड़ दें। बच्चों को सही तरह से टॉयलेट ट्रेनिंग दें। रात में सोने से पहले तरल पदार्थ का सेवन कम करें।

सिरकोनी, जौनपुर। जलालपुर थाना क्षेत्र के राजेपुर त्रिमुहानी निषाद बस्ती में सर्प के काटने से उर्मिला निषाद उम्र 57 वर्ष की महिला की मृत्यु हो गयी। परिजनों ने बताया कि मुर्गी के दरबा से अंडा निकालने गई थी। दरबे के अंदर बैठे जहरीले सर्प ने काट लिया। ग्रामीणों की मदद से जिला अस्पताल ले जाया गया जहां पर डॉक्टर ने मृत घोषित कर दिया। सिरकोनी, जौनपुर। जलालपुर थाना क्षेत्र के राजेपुर त्रिमुहानी निषाद बस्ती में सर्प के काटने से उर्मिला निषाद उम्र 57 वर्ष की महिला की मृत्यु हो गयी। परिजनों ने बताया कि मुर्गी के दरबा से अंडा निकालने गई थी। दरबे के अंदर बैठे जहरीले सर्प ने काट लिया। ग्रामीणों की मदद से जिला अस्पताल ले जाया गया जहां पर डॉक्टर ने मृत घोषित कर दिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Read More

Recent