Thursday, October 6, 2022
Advertisement

Article

अवतार भी ले सकता हूँ मैं…

अवतार भी ले सकता हूँ मैं... रे मनुष्य.....! तेरा विस्तार कहाँ तक है...? यह जान पाना मेरे लिए भी अब बहुत मुश्किल है.... कभी खुद में उलझा हुआ, कभी जरूरत से ज्यादा सुलझा हुआ..... कभी गाँठो के रूप में कसा हुआ तो कभी खुले धागे सा आबाद मनुष्य तेरी...

मैंने पीएफआई क्यों छोड़ी?

मैंने पीएफआई क्यों छोड़ी? 2007 में मैंने केएफडी जो कर्नाटक में पीएफआई का पुराना नाम है ज्वाइन किया था और अक्टूबर 2008 तक मैं इसका हिस्सा रहा। मैंने कर्नाटक के सेंट्रल बेंगलुरु के शिवा जी नगर के पी एफ आई...

पी.एफ.आई SIMI का पुनर्जन्म

पी.एफ.आई SIMI का पुनर्जन्म SIMI किसी परिचय का मोहताज नहीं है। आजादी के बाद यह धर्म आधारित पहला संगठन था जो भारत विरोधी आतंक गतिविधियों के कारण सामने आया था। इसमें जन स्तर पर इस्लामोफोबिया के कथा को प्रकाशित कर...

पी.एफ.आई का सैन्य विंग- भारत की एकता के लिये खतरा

पी.एफ.आई का सैन्य विंग- भारत की एकता के लिये खतरा असलम शेर खान कुख्यात चरमपंथी संगठन पी.एफ.आई का किसी भी सकारात्मक या रचनात्मक सोच से जोड़ना लगभग एक चुनौती है। पी.एफ.आई के आतंकी/हिंसक गतिविधि से संबंधित खबर के अलावा भारत की...

चरमपंथी संगठन का विरोध क्यों होना चाहिये?

चरमपंथी संगठन का विरोध क्यों होना चाहिये? एक मानव समुदाय के रूप में हमें ऐसे हानिकारएक और बेशर्म बुराइयों का विरोध करने के लिए सतर्क और सावधान रहना चाहिए जो कि न ही इस्लाम धर्म के द्वारा किसी भी तर्क...

पीएफआई: टर्की सम्बन्धित और भारत में चरमपंथ का उदय

पीएफआई: टर्की सम्बन्धित और भारत में चरमपंथ का उदय सभ्य होने का दोष यह है कि यह हमारे बीच के असभ्य लोगों को स्वतंत्रता और समानता के नाम पर हमारे खिलाफ भीषण अपराध करने की अनुमति प्रदान करता है- एम.जे....

जय अम्बे गौरी!

जय अम्बे गौरी! (आरती) ओम जय अम्बे गौरी! मैया जय अम्बे गौरी। शरण गहूँ मैं  किसकी, तू  रक्षक  सबकी। लाल चुनर में तू है सजी, सच्चा है दरबार। तेरी कृपा से चल रहा, ये सारा संसार। ओम जय अम्बे गौरी! मैया जय अम्बे गौरी। शरण गहूँ...

सेठ-बनिया, हम और हमारा समाज

सेठ-बनिया, हम और हमारा समाज चालाक बनिया, धूर्त बनिया या फिर कंजूस बनिया......! इन शब्दों का गाँव-देश में सामान्य रूप से चलन है.... पर मित्रों कभी गौर से देखो, गाँव-देश में बनिया की दुकान... जहाँ मिल जाएगी.... कहीं पुड़िया में, कहीं डिब्बा, कहीं टीन-कनस्टर तो कहीं बोरे में सँजोकर...

स्वाधीनता सेनानी भगवती दीन तिवारी की पुण्यतिथि पर विशेष

स्वाधीनता सेनानी भगवती दीन तिवारी की पुण्यतिथि पर विशेष मरा नहीं वही जो जिया न खुद के लिये अपने लिए सभी जीते हैं लेकिन जो दूसरों के लिए जिए उसी का जीना सार्थक होता है। ऐसा व्यक्ति कभी मरता नहीं, मरकर...

राजभाषा का दर्जा पाने के इंतजार में भोजपुरी

राजभाषा का दर्जा पाने के इंतजार में भोजपुरी भोजपुरी की बदौलत पूरी दुनिया प्रसिद्ध हासिल करने वाले सितारे भी है मौन भोजपुरी भाषा को आठवी सूची में दर्ज कराने के लिये हर संघठन को आना होगा आगे विनोद कुमार भारत विभिन्न वेषभूषा, संस्कृति,...
- Advertisement -spot_img

Latest News

शोभायात्रा निकालकर भक्तों ने धूमधाम से किया विसर्जन

शोभायात्रा निकालकर भक्तों ने धूमधाम से किया विसर्जन योगेश मिश्र कोहड़ौर, प्रतापगढ़। जिले में नवसृजित नगर पंचायत कोहड़ौर क्षेत्र अंतर्गत कई...
- Advertisement -spot_img