Coronavirus : ईरान में फंसे 277 भारतीय स्वदेश लाए गए, इतने दिनों के लिए रखा जाएगा आइसोलेशन में

जोधपुर। कोरोना के कहर के बीच ईरान से बीते दिन भारतीय लोगों का नया दल वापस लौटा है। इस दल में 277 लोग शामिल हैं। भारत सरकार की पहल पर इन्हें विशेष विमान से जोधपुर लाया गया है। अगले 14 दिनों तक इन लोगों को आइसोलेशन में रखा जाएगा। वतन वापसी करने वाले सभी भारतीयों ने विदेश मंत्री जयशंकर का आभार व्यक्त किया है। इससे पहले 15 मार्च को ईरान से 234 भारतीयों का जत्था आया था। विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने कहा था कि ईरान में फंसे 234 भारतीय वापस भारत आ गए हैं। ईरान में भारतीय राजदूत और ईरान में भारतीय उच्चायोग के प्रयासों के लिए धन्यवाद। ईरानी अधिकारियों का भी धन्यवाद। इससे पहले 53 भारतीयों का एक समूह ईरान से भारत लौटा था। ईरान में फंसे भारतीय छात्र-छात्राओं समेत विभिन्न लोग सोशल मीडिया पर वीडियो जारी कर भारत सरकार से उन्हें वापस लाने की गुहार लगा चुके हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना वायरस के खतरे को लेकर बीते दिनों हुई समीक्षा बैठक में अधिकारियों से ईरान में फंसे भारतीयों की जल्द सुरक्षित वापसी सुनिश्चित करने के लिए कहा था।

जोधपुर। कोरोना के कहर के बीच ईरान से बीते दिन भारतीय लोगों का नया दल वापस लौटा है। इस दल में 277 लोग शामिल हैं। भारत सरकार की पहल पर इन्हें विशेष विमान से जोधपुर लाया गया है। अगले 14 दिनों तक इन लोगों को आइसोलेशन में रखा जाएगा। वतन वापसी करने वाले सभी भारतीयों ने विदेश मंत्री जयशंकर का आभार व्यक्त किया है।

इससे पहले 15 मार्च को ईरान से 234 भारतीयों का जत्था आया था। विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने कहा था कि ईरान में फंसे 234 भारतीय वापस भारत आ गए हैं। ईरान में भारतीय राजदूत और ईरान में भारतीय उच्चायोग के प्रयासों के लिए धन्यवाद। ईरानी अधिकारियों का भी धन्यवाद।

Jaunpur News : जनपद में कोरोना से निजात पाने लिए विश्व के ​इतिहास में पहली बार हुआ ऐसा

इससे पहले 53 भारतीयों का एक समूह ईरान से भारत लौटा था। ईरान में फंसे भारतीय छात्र-छात्राओं समेत विभिन्न लोग सोशल मीडिया पर वीडियो जारी कर भारत सरकार से उन्हें वापस लाने की गुहार लगा चुके हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना वायरस के खतरे को लेकर बीते दिनों हुई समीक्षा बैठक में अधिकारियों से ईरान में फंसे भारतीयों की जल्द सुरक्षित वापसी सुनिश्चित करने के लिए कहा था।