Monday, November 28, 2022
Advertisement

भाग्य व शौर्य हमारे साथ, 5 कारण बचाएंगे हर हिन्दुस्तानी को

डा. हरेन्द्र देव सिंह समस्त जनपदवासियों सहित तमाम देशवासियों को बधाई देता हूं कि आपका सबका संयम और एकदम लॉक डाउन का कड़ाई से पालन करने से जिस जानलेवा बीमारी के ताण्डव ने चीन, अमेरिका, इटली, स्पेन, फ्रांस जैसे देशों को हिला करके रख दिया है, वही बीमारी आज हमारे देशवासियों की अथक मेहनत समर्पण से नियंत्रण में है। जल्द ही इस पर नियंत्रण पा लेने के प्रयत्न भी जारी है। इस लड़ाई में आज गरीब-अमीर, हिन्दू-मुस्लिम आदि ने बड़ी भूमिका निभायी है। हिन्दुस्तान की भौगोलिक आनुवांशिक और शारीरिक बनावट इस रोग से लड़ने के लिये महत्वपूर्ण योगदान प्रदान कर रहा है। हमारे शरीर में इस रोग से लड़ने के कई खूबियां ईश्वर प्रदत्त हैं। हम हिन्दुस्तानियों में है ये 5 बातें। 1- हमारे बचपन में लगी बीसीजी का टीका कोरोना की मारकाता को शरीर में कम कर दे रहा है। 2- हमारे डीएनए में एक रिबोसोमल प्रोटीन वायरस के मल्टिप्लाई होने को कम कर दे रहा है जिससे हममें सांस एवं वेंटिलतरस की जरूरत कम पड़ेगी। 3- हिन्दुस्तान में फैलने वाला वायरस कम्यूटेशन होकर अब यह अमरीका, इटली, चीन, फ्रांस के वायरस से अलग फेफड़े में कम चिपकने वाला हो गया है। इससे इसकी विकरालता एवं मारकता और देशों की तुलना में कम हो गयी है। 4- हिन्दुस्तानियों में हर्ड इम्यूनिटी का होना जो हमें हमारी पुरानी आदत एवं संस्कृति एवं गरीब देश रहने की वजह से प्राप्त है। ये महत्वपूर्ण बातें हैं जो कोरोना के कहर एवं ताण्डव होने से रोकेगा। 5- वर्तमान में बढ़ता हुआ तापमान भी कोरोना की संक्रमणता पर ग्रहण का काम करेगा। ऐसे में हम कह सकते हैं कि ये कोरोना तुझसे निपटने का पूरा इंतजाम ऊपर वाले ने हमारे लिये कर रखा है परंतु देशवासी अगले 3 सप्ताह तक किसी भी दूसरे व्यक्ति को कोरोना कोवीड 10 का संक्रमित मानकर खुद को लॉक डाउन में रखें और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें। आपमें तमाम खूबियां हैं परन्तु आपकी लापरवाही आपको बड़े संकट में डाल सकती है। आप अपना भाग्य समझकर वर्तमान परिस्थितियों का लाभ उठाकर पूरे विश्व में अपना डंका बजवा सकते हैं। कोरोना वायरस सहित सर्वशक्तिमान एवं सर्वविद्यमान देश की जनता को यह पैगाम है कि देश की रीति सदा चली आई, प्राण जाई पर देश की आन न जाई। (लेखक वरिष्ठ हृदय रोग विशेषज्ञ एवं कृष्णा हार्ट केयर सेण्टर के अगुवा हैं)

डा. हरेन्द्र देव सिंह
समस्त जनपदवासियों सहित तमाम देशवासियों को बधाई देता हूं कि आपका सबका संयम और एकदम लॉक डाउन का कड़ाई से पालन करने से जिस जानलेवा बीमारी के ताण्डव ने चीन, अमेरिका, इटली, स्पेन, फ्रांस जैसे देशों को हिला करके रख दिया है, वही बीमारी आज हमारे देशवासियों की अथक मेहनत समर्पण से नियंत्रण में है। जल्द ही इस पर नियंत्रण पा लेने के प्रयत्न भी जारी है। इस लड़ाई में आज गरीब-अमीर, हिन्दू-मुस्लिम आदि ने बड़ी भूमिका निभायी है।

हिन्दुस्तान की भौगोलिक आनुवांशिक और शारीरिक बनावट इस रोग से लड़ने के लिये महत्वपूर्ण योगदान प्रदान कर रहा है। हमारे शरीर में इस रोग से लड़ने के कई खूबियां ईश्वर प्रदत्त हैं। हम हिन्दुस्तानियों में है ये 5 बातें।

1- हमारे बचपन में लगी बीसीजी का टीका कोरोना की मारकाता को शरीर में कम कर दे रहा है।

2- हमारे डीएनए में एक रिबोसोमल प्रोटीन वायरस के मल्टिप्लाई होने को कम कर दे रहा है जिससे हममें सांस एवं वेंटिलतरस की जरूरत कम पड़ेगी।

3- हिन्दुस्तान में फैलने वाला वायरस कम्यूटेशन होकर अब यह अमरीका, इटली, चीन, फ्रांस के वायरस से अलग फेफड़े में कम चिपकने वाला हो गया है। इससे इसकी विकरालता एवं मारकता और देशों की तुलना में कम हो गयी है।

4- हिन्दुस्तानियों में हर्ड इम्यूनिटी का होना जो हमें हमारी पुरानी आदत एवं संस्कृति एवं गरीब देश रहने की वजह से प्राप्त है। ये महत्वपूर्ण बातें हैं जो कोरोना के कहर एवं ताण्डव होने से रोकेगा।

5- वर्तमान में बढ़ता हुआ तापमान भी कोरोना की संक्रमणता पर ग्रहण का काम करेगा।

ऐसे में हम कह सकते हैं कि ये कोरोना तुझसे निपटने का पूरा इंतजाम ऊपर वाले ने हमारे लिये कर रखा है परंतु देशवासी अगले 3 सप्ताह तक किसी भी दूसरे व्यक्ति को कोरोना कोवीड 10 का संक्रमित मानकर खुद को लॉक डाउन में रखें और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें। आपमें तमाम खूबियां हैं परन्तु आपकी लापरवाही आपको बड़े संकट में डाल सकती है। आप अपना भाग्य समझकर वर्तमान परिस्थितियों का लाभ उठाकर पूरे विश्व में अपना डंका बजवा सकते हैं। कोरोना वायरस सहित सर्वशक्तिमान एवं सर्वविद्यमान देश की जनता को यह पैगाम है कि देश की रीति सदा चली आई, प्राण जाई पर देश की आन न जाई।

(लेखक वरिष्ठ हृदय रोग विशेषज्ञ एवं कृष्णा हार्ट केयर सेण्टर के अगुवा हैं)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Read More

Recent