Wednesday, November 30, 2022
Advertisement

विकास के भरोसे गंगा मईया

विकास के भरोसे कब तक रोटी सेंकोगें,
मैली मैली गंगा मईया कब तक तुम बोलोगे।।
राजनीति के पहिए का वीरों तुम इलाज करो,
गंगा के अभियान को जन जन तक प्रसार करो।।

धनुष बाण टांगें कब तक कंधा तुम ढुढ़ोगे,
राम के शस्त्र का मर्यादा कब तक भूलोंगे।।
अपनी गलती कब तक एक दुसरो पर ठेलोग,
लक्ष्य साधकर गंगा का कब तक तुम जियोगे।।

कमर कसो इतिहास रचो गंगा को साफ करो,
घर घर अलख जगाकर अब तो इंसाफ करो।।
अपने अंदर का रावन दहन कर हार को स्विकार करो,
थैली कुड़ा करकट को गंगा से अभिमुक्त करो।।

उठो प्यारे जी जान लगाकर मईया तुमको पुकार रही,
खून के एक एक बूंद का हिसाब मईया तुमसे मांग रही।।
मैली मैली कलंक का मईया अब उध्दार चाह रही,
स्वच्छ सुंदर अविरल धारा गंगा मईया अब मांग रही।।

विकास के भरोसे कब तक रोटी सेंकोगें, मैली मैली गंगा मईया कब तक तुम बोलोगे।। राजनीति के पहिए का वीरों तुम इलाज करो, गंगा के अभियान को जन जन तक प्रसार करो।। धनुष बाण टांगें कब तक कंधा तुम ढुढ़ोगे, राम के शस्त्र का मर्यादा कब तक भूलोंगे।। अपनी गलती कब तक एक दुसरो पर ठेलोग, लक्ष्य साधकर गंगा का कब तक तुम जियोगे।। कमर कसो इतिहास रचो गंगा को साफ करो, घर घर अलख जगाकर अब तो इंसाफ करो।। अपने अंदर का रावन दहन कर हार को स्विकार करो, थैली कुड़ा करकट को गंगा से अभिमुक्त करो।। उठो प्यारे जी जान लगाकर मईया तुमको पुकार रही, खून के एक एक बूंद का हिसाब मईया तुमसे मांग रही।। मैली मैली कलंक का मईया अब उध्दार चाह रही, स्वच्छ सुंदर अविरल धारा गंगा मईया अब मांग रही।। महेश गुप्ता जौनपुरी गनापुर अजोशी मड़ियाहूं जौनपुर 9918845864

महेश गुप्ता जौनपुरी

गनापुर अजोशी मड़ियाहूं जौनपुर

9918845864

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Read More

Recent