Sunday, August 14, 2022

कोरोना के खतरे से भयभीत नगरवासी

Must Read

- Advertisement -

चंदन अग्रहरि शाहगंज, जौनपुर। नगर के हुसैनगंज मोहल्ला स्थित आजमगढ़ रोड निवासी व्यवसाई की कोरोना संक्रमण से हुई मौत के बाद परिवार में छह सदस्यों को संक्रमित होने से लोगों का डर गया नहीं इस बीच सोमवार को आई रिपोर्ट में चार और संक्रमितों की पुष्टि के बाद पूरे नगर में भय का माहौल है। लेकिन प्रशासनिक अमला समस्या से अनजान बना है। सोमवार को आई रिपोर्ट में व्यवसाई के घर काम करने वाली महिला के बेटे बहू भी संक्रमित मिले। जबकि महिला की रिपोर्ट आनी बाकी है। वहीं उनके एक पड़ोसी के अलावा जौनपुर शाहगंज मार्ग निवासी युवक संक्रमित मिला जिसका व्यवसाई के परिवार से संबंध बताया जाता है। मौत के बाद जिलाधिकारी के आदेश पर उक्त क्षेत्र को सील तो किया गया लेकिन वह महज खानापूर्ति ही साबित हो रहा है। बैरिकेटिंग कर सील किए गए एरिया में दुकानें तो बंद हैं। लेकिन लोगों की आवाजाही शुरू है। दुकानदार दुकानों को खोलकर अपना काम बदस्तूर जारी रखे हैं। मोहल्ले के लोग बाज़ार में घूमते नजर आ रहे हैं। जिससे एक बड़े संकट के आने का लोगों में डर है। सोमवार को आई रिपोर्ट में एक परिवार के युवक को कोरोना संक्रमित मिलने के बाद भी उक्त परिवार के सदस्य निर्बाध रुप से सरकारी सस्ते गल्ले की दुकान पर लोगों को राशन बांटते रहे। वहीं सीलिंग एरिया के बगल संक्रमित मिले दंपति को स्वास्थ्य विभाग ने कोविड19 हस्पिटल में भर्ती तो करा दिया। लेकिन स्थानीय प्रशासन सील किए गए क्षेत्र को आगे नहीं बढ़ाया। सील किए गए क्षेत्र में बैंक आफ महाराष्ट्र की शाखा खुली रही। बीमा कंपनी के फ्रेंचाइजी कार्यालय व फाइनेंस कंपनी का कार्यालय में बदस्तूर काम जारी है। पूछे जाने पर बैंक आफ महाराष्ट्र के शाखा प्रबंधक दिलीप सिंह ने बताया कि बैंक अधिकारियों ने स्थानीय प्रशासन के अधिकारी के आदेशानुसार काम करने का निर्देश दिया है जबकि उप जिलाधिकारी की तरफ से कोई आदेश नहीं मिला है। फिलहाल संक्रमण के फैलने के खतरे को देखते हुए स्वास्थ्य विभाग ने नौ टीम बनाई है। जो घर घर जाकर परिवार के सदस्यों का लेखाजोखा जुटाने और उनकी थर्मल स्कैनिंग के काम में लगाए गए हैं। मामले में उप जिलाधिकारी राजेश कुमार वर्मा ने कहा कि सील किए गए एरिया को बढ़ाया जाएगा। बैंक कार्यालय खुले होने पर कहा कि इसके लिए उच्चाधिकारियों से बात करके बताया जाएगा।

चंदन अग्रहरि
शाहगंज, जौनपुर। नगर के हुसैनगंज मोहल्ला स्थित आजमगढ़ रोड निवासी व्यवसाई की कोरोना संक्रमण से हुई मौत के बाद परिवार में छह सदस्यों को संक्रमित होने से लोगों का डर गया नहीं इस बीच सोमवार को आई रिपोर्ट में चार और संक्रमितों की पुष्टि के बाद पूरे नगर में भय का माहौल है। लेकिन प्रशासनिक अमला समस्या से अनजान बना है।

- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -

जफराबाद, जौनपुर। खोजनपुर गांव के अनुसूचित बस्ती में सोमवार को देर रात करीब 3:00 बजे कच्चा मकान गिरने से वृद्ध पति पत्नी दब गए। पति की जान बच गई लेकिन पत्नी की दर्दनाक मौत हो गई। सूचना पुलिस को दे दी गई है। पोस्टमार्टम के लिए पुलिस ने शव को भेज दिया है। उक्त गांव निवासी इंद्रजीत 65 वर्ष पत्नी धनावती देवी 60 वर्ष के साथ अपने कच्चे घर में अलग-अलग चारपाई पर सोए हुए थे। देर रात करीब 3:00 बजे अचानक बारिश की वजह से कच्चे घर का दीवार ढह गया। दोनों दीवार के मिट्टी में दब गए। जोरदार आवाज सुनकर बगल के दूसरे घर में सो रहे परिवार के लोग दौड़कर पहुंचे। आनन-फानन में मिट्टी हटाकर इंद्रजीत को घायल अवस्था में बाहर निकाल लिए। धनावती देवी अधिक मलबे में दबी हुई थी। जब तक मलबा खोदकर बाहर निकाले, तब तक उनकी सांसे बंद हो चुकी थी। फिर भी आनन-फानन में लोग जिला अस्पताल लेकर पहुंचे, डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया। इसी प्रकार अहमदपुर गांव में कच्चा मकान गिरने से मोहरा देवी पत्नी लालता की मलबे में दबने से मौत हो गई।

सोमवार को आई रिपोर्ट में व्यवसाई के घर काम करने वाली महिला के बेटे बहू भी संक्रमित मिले। जबकि महिला की रिपोर्ट आनी बाकी है। वहीं उनके एक पड़ोसी के अलावा जौनपुर शाहगंज मार्ग निवासी युवक संक्रमित मिला जिसका व्यवसाई के परिवार से संबंध बताया जाता है। मौत के बाद जिलाधिकारी के आदेश पर उक्त क्षेत्र को सील तो किया गया लेकिन वह महज खानापूर्ति ही साबित हो रहा है। बैरिकेटिंग कर सील किए गए एरिया में दुकानें तो बंद हैं। लेकिन लोगों की आवाजाही शुरू है। दुकानदार दुकानों को खोलकर अपना काम बदस्तूर जारी रखे हैं।

जौनपुर। भाजपा कार्यालय पर सामाजिक दूरी का ख्याल रखते हुये जिलाध्यक्ष श्री पुष्पराज सिंह के अध्यक्षता में बैठक हुई, जिसमें आपातकाल पर चर्चा हुई। जिलाध्यक्ष ने कहा कि 25 जून का दिन एक विवादस्पद फैसले के लिए जाना जाता है यही वह दिन था जब देश में आपातकाल लगाने की घोषणा हुई तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने जनता को बेवजह मुश्किलों के समुंदर में धकेल दिया। 25 जून, 1975 को आपातकाल की घोषणा की गई और 26 जून 1975 से 21-मार्च 1977 तक यानी 21 महीने की अवधि तक आपातकाल जारी रहा। आपातकाल के फैसले को लेकर इंदिरा गांधी द्वारा कई दलीलें दी गईं। देश को गंभीर खतरा बताया गया, लेकिन पर्दे के पीछे की कहानी कुछ और ही थी उन्होंने कहा कि हमारे जिले जौनपुर से भी कई नेता जेल गए जिसमे मुख्य रूप से पूर्व विधायक सुरेन्द्र सिंह अल्प आयु में ही जेल गए कैलाश विश्वकर्मा जी, हरिश्चन्द्र श्रीवास्तव तमाम नेता जेल गये थे। जिलाध्यक्ष ने कहा कि आपातकाल की नींव 12 जून 1975 को ही रख दी गई थी जब इंदिरा गांधी के खिलाफ संयुक्त सोशलिस्ट पार्टी के प्रत्याशी राजनारायण ने इलाहाबाद हाईकोर्ट में एक याचिका दाखिल की राजनारायण ने अपनी याचिका में इंदिरा गांधी पर 6 आरोप लगाये थे 12 जून 1975 को राजनारायण की इस याचिका पर इलाहाबाद हाईकोर्ट ने फैसला सुनाया इंदिरा गांधी को चुनाव में सरकारी मशीनरी के दुरुपयोग का दोषी पाया गया और इंदिरा गांधी के निर्वाचन को रद्द कर दिया और 6 साल तक उनके चुनाव लड़ने पर भी रोक लगा दी। हाईकोर्ट के फैसले के बाद इंदिरा गांधी को प्रधानमंत्री पद छोड़ना पड़ता इसलिए इस लटकती तलवार से बचने के लिए प्रधानमंत्री के आधिकारिक आवास पर आपात बैठक बुलाई गई। इस दौरान कांग्रेस के तत्कालीन अध्यक्ष डीके बरुआ ने इंदिरा गांधी को सुझाव दिया कि अंतिम फैसला आने तक वो कांग्रेस अध्यक्ष बन जाएं और प्रधानमंत्री की कुर्सी वह खुद संभाल लेंगे लेकिन बरुआ का यह सुझाव इंदिरा गांधी के बेटे संजय गांधी को पसंद नहीं आया संजय की सलाह पर इंदिरा गांधी ने हाईकोर्ट के फैसले के खिलाफ 23 जून को सुप्रीम कोर्ट में अपील की सुप्रीम कोर्ट ने अगले दिन 24 जून 1975 को याचिका पर सुनवाई करते हुए कहा कि वो इस फैसले पर पूरी तरह से रोक नहीं लगाएंगे। सुप्रीम कोर्ट ने उन्हें प्रधानमंत्री बने रहने की अनुमति दे दी, मगर साथ ही कहा कि वो अंतिम फैसला आने तक सांसद के रूप में मतदान नहीं कर सकतीं विपक्ष के नेता सुप्रीम कोर्ट का पूरा फैसला आने तक नैतिक तौर पर इंदिरा गांधी के इस्तीफे पर अड़ गए। एक तरफ इंदिरा गांधी कोर्ट में कानूनी लड़ाई लड़ रहीं थीं, दूसरी तरफ विपक्ष उन्हें घेरने में जुटा हुआ था। गुजरात और बिहार में छात्रों के आंदोलन के बाद विपक्ष कांग्रेस के खिलाफ एकजुट हो गया। लोकनायक कहे जाने वाले जयप्रकाश नारायण (जेपी) की अगुआई में विपक्ष लगातार कांग्रेस सरकार पर हमला कर रहा था। सुप्रीम कोर्ट के फैसले के अगले दिन 25 जून 1975 को दिल्ली के रामलीला मैदान में जेपी ने एक रैली का आयोजन किया जिसमे अटल बिहारी वाजपेयी, लालकृष्ण आडवाणी, आचार्य जेबी कृपलानी, मोरारजी देसाई और चंद्रशेखर जैसे तमाम दिग्गज नेता एक साथ एक मंच पर मौजूद थे। विपक्ष के बढ़ते दबाव के बीच इंदिरा गांधी ने 25 जून 1975 की आधी रात को तत्कालीन राष्ट्रपति फखरुद्दीन अली अहमद से इमरजेंसी के घोषणा पत्र पर दस्तखत करा लिए जिसके बाद सभी विपक्षी नेता गिरफ्तार कर लिए गए 26 जून 1975 को सुबह 6 बजे कैबिनेट की एक बैठक बुलाई गई इस बैठक के बाद इंदिरा गांधी ने ऑल इंडिया रेडियो के ऑफिस पहुंचकर देश को संबोधित किया उन्होंने कहा कि आपातकाल के पीछे आंतरिक अशांति को वजह बताई लेकिन इसके खिलाफ गहरी साजिश रची गई इसके बाद प्रेस की आजादी छीन ली गई, कई वरिष्ठ पत्रकारों को जेल भेज दिया गया अखबार तो बाद में फिर छपने लगे, लेकिन उनमें क्या छापा जा रहा है। ये पहले सरकार को बताना पड़ता था। इमरजेंसी का विरोध करने वालों को इंदिरा गांधी ने जेल भेज दिया था 21 महीने में 11 लाख लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेजा गया. 21 मार्च 1977 को इमरजेंसी खत्म करने की घोषणा की गई। इंदिरा गांधी और कांग्रेस आपातकाल को संविधान के अनुसार लिए गया फैसला बताते रहे, लेकिन वास्तव में उन्होंने 1975 में संविधान द्वारा दिए गए इस अधिकार का दुरुपयोग किया। कार्यक्रम में मुख्य रूप से शामिल जिला उपाध्यक्ष सुरेंद्र सिंघानियां, अमित श्रीवास्तव, जिला महामंत्री शुशील मिश्रा, पीयूष गुप्ता, जिला मंत्री राजू दादा, अभय राय डीसीएफ चेयरमैन धन्यजय सिंह, भूपेंद्र पांडे, आमोद सिंह, विनीत शुक्ला, राजवीर दुर्गवंशी, रोहन सिंह, इन्द्रसेन सिंह प्रमोद, अनिल गुप्ता, प्रमोद प्रजापति, भाजयुमो जिला महामंत्री विकास ओझा, शुभम मौर्या आदि कार्यकर्ता उपस्थित रहे।

मोहल्ले के लोग बाज़ार में घूमते नजर आ रहे हैं। जिससे एक बड़े संकट के आने का लोगों में डर है। सोमवार को आई रिपोर्ट में एक परिवार के युवक को कोरोना संक्रमित मिलने के बाद भी उक्त परिवार के सदस्य निर्बाध रुप से सरकारी सस्ते गल्ले की दुकान पर लोगों को राशन बांटते रहे। वहीं सीलिंग एरिया के बगल संक्रमित मिले दंपति को स्वास्थ्य विभाग ने कोविड19 हस्पिटल में भर्ती तो करा दिया। लेकिन स्थानीय प्रशासन सील किए गए क्षेत्र को आगे नहीं बढ़ाया। सील किए गए क्षेत्र में बैंक आफ महाराष्ट्र की शाखा खुली रही।

चंदन अग्रहरि शाहगंज, जौनपुर। सोमवार की सुबह अपने देवर व अपनी पुत्री के साथ बाइक पर सवार होकर दवा लेने शाहगंज जा रही थी कि क्षेत्र के निजमापुर गांव के समीप जर्जर सड़क के गड्ढे में बाइक असंतुलित होकर गिर पड़ी इसी दौरान पीछे आ रही ट्रक ने अपने चपेट में ले लिया। जिससे विवाहिता की मौके पर मौत हो गई। जबकि उसके देवर को मामूली चोटें आई। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर आवश्यक कार्रवाई में जुटी है। खुटहन थाना क्षेत्र के कानामऊ गांव निवासी रामधनी की पत्नी सुशीला 28 सोमवार की सुबह करीब ग्यारह बजे अपने देवर सियाराम व दो वर्षीय पुत्री के साथ बाइक पर सवार होकर शाहगंज दवा लेने जा रही थी कि क्षेत्र के निजमापुर गांव के समीप सड़क पर बने गड्डे में बाइक असंतुलित होकर गिर पड़ी इसी दौरान पीछे से तेज रफ्तार में आ रही ट्रक ने सुशीला को अपने चपेट में ले लिया। जिससे उसकी मौके पर मौत हो गई। जबकि उसकी पुत्री व देवर को मामूली चोटें आई हैं। सूचना पर पहुंची कोतवाली पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम हेतु भेज दिया। मौत की खबर मिलने पर स्वजनों में कोहराम मच गया है।

बीमा कंपनी के फ्रेंचाइजी कार्यालय व फाइनेंस कंपनी का कार्यालय में बदस्तूर काम जारी है। पूछे जाने पर बैंक आफ महाराष्ट्र के शाखा प्रबंधक दिलीप सिंह ने बताया कि बैंक अधिकारियों ने स्थानीय प्रशासन के अधिकारी के आदेशानुसार काम करने का निर्देश दिया है जबकि उप जिलाधिकारी की तरफ से कोई आदेश नहीं मिला है।

फिलहाल संक्रमण के फैलने के खतरे को देखते हुए स्वास्थ्य विभाग ने नौ टीम बनाई है। जो घर घर जाकर परिवार के सदस्यों का लेखाजोखा जुटाने और उनकी थर्मल स्कैनिंग के काम में लगाए गए हैं। मामले में उप जिलाधिकारी राजेश कुमार वर्मा ने कहा कि सील किए गए एरिया को बढ़ाया जाएगा। बैंक कार्यालय खुले होने पर कहा कि इसके लिए उच्चाधिकारियों से बात करके बताया जाएगा।

जौनपुर। जिले में बुधवार को समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव का जन्मदिन धूमधाम से मनाया गया। सिकरारा क्षेत्र के शाहपुर स्थित बजरंग बली मंदिर कुटी परिसर में सपा नेता लकी यादव ने पदाधिकारियों के साथ केक काटकर राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव का जन्मदिन मनाया। इसके साथ ही बच्चों को वस्त्र, अनाज व फल वितरित किया। उन्होंने कहा कि किसान, गांव, गरीब की लड़ाई केवल समाजवादी पार्टी ही लड़ सकती है। इस अवसर मोनू यदुवंशी, सोनू यदुवंशी, केशजीत यादव, राहुल यादव, रामनाथ यादव, तेजू यादव प्रधान, मंगल यादव, शुभम, आनन्द, मुलायम, शशिकांत, संस्कार, मेवा आदि उपस्थित रहे। सौरभ सिंह जौनपुर। सिकरारा पुलिस ने कालेज प्रबंधक सभापति दुबे मर्डर केश का पर्दाफास कर दिया है। पुलिस के अनुसार हत्या प्रबंधक के नौकर ने ही डंडे से ही पीटकर किया है। एसपी अशोक कुमार सिंह ने आज प्रेस कांफ्रेन्स में बताया कि सिकरारा थाना क्षेत्र के उतिराई गांव में पंडित सभापति दुबे इंटर कॉलेज के प्रबंधक सभापति दुबे की हत्या अज्ञात बदमाशों द्वारा कर दिया गया था, घटना के बाद पुलिस कई विन्दुओं पर जांच कर रही थी। पुलिस उनके नौकर चंद्रप्रकाश पांडेय पुत्र दयाशंकर निवासी नन्दलालपुर थाना रामपुर से पूंछताछ किया तो पहले वह पुलिस को गुमराह करने का प्रयास किया बाद में कड़ाई से पूंछताछ किया तो उसने खुद अपने मालिक को मौत के घाट उतारना कबूल कर लिया। उसके निशानदेही पर हत्या में प्रयोग किया डंडा, लूट के 70 हजार रुपये और विद्यालय के कागजात बरामद हुआ है। पुछताछ में आरोपी ने बताया कि प्रबन्धक मुझसे खाना बनवाते थे तथा निर्वस्त्र होकर शरीर की मालिश करवाते थे, जिसके कारण मैं काम छोड़ने को कहा था लेकिन वे दूसरे नौकर तक आने तक मुझे न छोड़ रहे थे न ही मेरी तनख्वाह दे रहे थे। इसी से अजीज आकर मैंने उन्हें मार दिया।

- Advertisement -

अब आप भी tejastoday.com Apps इंस्टॉल कर अपने क्षेत्र की खबरों को tejastoday.com पर कर सकते है पोस्ट

spot_imgspot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest News

आलोक हास्पिटल ने निशुल्क चिकित्सा शिविर का किया आयोजन

आलोक हास्पिटल ने निशुल्क चिकित्सा शिविर का किया आयोजन वाराणसी। सदर तहसील अंतर्गत सिकरौल के प्राइमरी विद्यालय में आजादी के...
- Advertisement -spot_img

More Articles Like This