खबर का असरः जालौन के फंसे लोगों के मदद के लिये बढ़े हाथ

उपजिलाधिकारी केराकत ने मौके पर पहुंचकर खिलाया खाना जौनपुर। चन्दवक क्षेत्र के दिशापुर में गुप्ता जी के मकान में रहकर अपनी रोजी-रोटी कमाने आये जालौन के गड़गुवा गांव के लोगों को लॉक डाउन में खाने-पीने को लेकर समस्या आ गयी। इस समस्या को समाचार पत्र में प्रमुखता से स्थान दिया गया जिसको प्रशासन ने गम्भीरता से ले लिया। परेशान शिवराखन सिंह ने बताया कि खबर की सूचना मिलते ही उपजिलाधिकारी केराकत स्वयं मौके पर पहुंचकर भूखों को खाना खिलाये। साथ ही हर सम्भव मदद का भरोसा दिये। वहीं शाम होते ही हल्का लेखपाल खाना लेकर पहुंच गये। इस बाबत पूछे जाने पर सेनापुर के प्रधान रमेश कुमार ने बताया कि पीड़ित परिवारों को राशन सामग्री देकर हर सम्भव मदद का भरोसा दिया गया है। साथ ही धर्मेन्द्र गुप्ता व भीम आर्मी के जिला उपाध्यक्ष रत्नेश कुमार ने उन लोगों को घर के अंदर रहने व कम से कम 20 सेकेण्ड तक हाथ धोने की बात बतायी। उधर कोटेदार ने उक्त परिवारों को 22 किलो चावल व 32 किलो गेहूं दिये।

उपजिलाधिकारी केराकत ने मौके पर पहुंचकर खिलाया खाना

जौनपुर। चन्दवक क्षेत्र के दिशापुर में गुप्ता जी के मकान में रहकर अपनी रोजी-रोटी कमाने आये जालौन के गड़गुवा गांव के लोगों को लॉक डाउन में खाने-पीने को लेकर समस्या आ गयी। इस समस्या को समाचार पत्र में प्रमुखता से स्थान दिया गया जिसको प्रशासन ने गम्भीरता से ले लिया।

परेशान शिवराखन सिंह ने बताया कि खबर की सूचना मिलते ही उपजिलाधिकारी केराकत स्वयं मौके पर पहुंचकर भूखों को खाना खिलाये। साथ ही हर सम्भव मदद का भरोसा दिये। वहीं शाम होते ही हल्का लेखपाल खाना लेकर पहुंच गये। इस बाबत पूछे जाने पर सेनापुर के प्रधान रमेश कुमार ने बताया कि पीड़ित परिवारों को राशन सामग्री देकर हर सम्भव मदद का भरोसा दिया गया है।

साहू परिवार ने गरीबों को राशन एवं बच्चों को दिया टाफी-बिस्कुट

साथ ही धर्मेन्द्र गुप्ता व भीम आर्मी के जिला उपाध्यक्ष रत्नेश कुमार ने उन लोगों को घर के अंदर रहने व कम से कम 20 सेकेण्ड तक हाथ धोने की बात बतायी। उधर कोटेदार ने उक्त परिवारों को 22 किलो चावल व 32 किलो गेहूं दिये।