शिक्षकों के हित व जानमाल से सरकार को कोई सरोकार नहींः धर्मेन्द्र यादव

शिक्षक नेता  ने कहा- मूल्यांकन कार्य शुरू कराना है अमावनीय निर्णय जौनपुर। उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षक संघ (नवीन) के कार्यवाहक प्रदेश अध्यक्ष धर्मेन्द्र यादव ने वर्तमान सरकार पर आरोप लगाते हुये कहा कि सरकार अंग्रेजी हुकूमत की भांति केवल अपना लाभ देखती है जबकि शिक्षकों व कर्मचारियों के हितों से कोई सरोकार नहीं है। उन्होंने कहा कि जहां पूरा विश्व कोरोना वायरस जैसी महामारी से मानव अस्तित्व को बचाने के लिये संघर्षरत है जिसको लेकर लॉक डाउन लगा हुआ है, वहीं प्रदेश की प्रमुख शिक्षा सचिव लाखों शिक्षकों व शिक्षिकाओं की जान की परवाह न करते हुये बार-बार परिषदीय परीक्षा-2020 की उत्तरपुस्तिकाओं के मूल्यांकन का आदेश जारी कर रही हैं। श्री यादव ने कहा कि नये आदेश के क्रम में 12 मई से सभी जोन में मूल्यांकन पुनः शुरू होगा जो बिना सोचे-समझे एकतरफा व अमानवीय निर्णय है जबकि संघ मूल्याकंन बहिष्कार को लेकर उप मुख्यमंत्री/माध्यमिक शिक्षा मंत्री को सम्बोधित एक ज्ञापन जिलाधिकारी और जिला विद्यालय निरीक्षक से भेजकर सरकार से मांग किया था कि इस महामारी को देखते हुये उत्तरपुस्तिकाओं का मूल्यांकन घर पर करने की अनुमति दी जाय। इससे शिक्षक भी सुरक्षित रहेंगे और मूल्यांकन कार्य भी पूर्ण हो जायेगा तथा लॉक डाउन का पालन भी होगा।

शिक्षक नेता ने कहा- मूल्यांकन कार्य शुरू कराना है अमावनीय निर्णय

जौनपुर। उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षक संघ (नवीन) के कार्यवाहक प्रदेश अध्यक्ष धर्मेन्द्र यादव ने वर्तमान सरकार पर आरोप लगाते हुये कहा कि सरकार अंग्रेजी हुकूमत की भांति केवल अपना लाभ देखती है जबकि शिक्षकों व कर्मचारियों के हितों से कोई सरोकार नहीं है।

न्यूज पोर्टल की दुनिया में ‘जौनपुर न्यूज डॉट कॉम’ ने रखा कदम

उन्होंने कहा कि जहां पूरा विश्व कोरोना वायरस जैसी महामारी से मानव अस्तित्व को बचाने के लिये संघर्षरत है जिसको लेकर लॉक डाउन लगा हुआ है, वहीं प्रदेश की प्रमुख शिक्षा सचिव लाखों शिक्षकों व शिक्षिकाओं की जान की परवाह न करते हुये बार-बार परिषदीय परीक्षा-2020 की उत्तरपुस्तिकाओं के मूल्यांकन का आदेश जारी कर रही हैं। श्री यादव ने कहा कि नये आदेश के क्रम में 12 मई से सभी जोन में मूल्यांकन पुनः शुरू होगा जो बिना सोचे-समझे एकतरफा व अमानवीय निर्णय है जबकि संघ मूल्याकंन बहिष्कार को लेकर उप मुख्यमंत्री/माध्यमिक शिक्षा मंत्री को सम्बोधित एक ज्ञापन जिलाधिकारी और जिला विद्यालय निरीक्षक से भेजकर सरकार से मांग किया था कि इस महामारी को देखते हुये उत्तरपुस्तिकाओं का मूल्यांकन घर पर करने की अनुमति दी जाय। इससे शिक्षक भी सुरक्षित रहेंगे और मूल्यांकन कार्य भी पूर्ण हो जायेगा तथा लॉक डाउन का पालन भी होगा।

शिक्षक नेता ने कहा- मूल्यांकन कार्य शुरू कराना है अमावनीय निर्णय  जौनपुर। उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षक संघ (नवीन) के कार्यवाहक प्रदेश अध्यक्ष धर्मेन्द्र यादव ने वर्तमान सरकार पर आरोप लगाते हुये कहा कि सरकार अंग्रेजी हुकूमत की भांति केवल अपना लाभ देखती है जबकि शिक्षकों व कर्मचारियों के हितों से कोई सरोकार नहीं है। उन्होंने कहा कि जहां पूरा विश्व कोरोना वायरस जैसी महामारी से मानव अस्तित्व को बचाने के लिये संघर्षरत है जिसको लेकर लॉक डाउन लगा हुआ है, वहीं प्रदेश की प्रमुख शिक्षा सचिव लाखों शिक्षकों व शिक्षिकाओं की जान की परवाह न करते हुये बार-बार परिषदीय परीक्षा-2020 की उत्तरपुस्तिकाओं के मूल्यांकन का आदेश जारी कर रही हैं। श्री यादव ने कहा कि नये आदेश के क्रम में 12 मई से सभी जोन में मूल्यांकन पुनः शुरू होगा जो बिना सोचे-समझे एकतरफा व अमानवीय निर्णय है जबकि संघ मूल्याकंन बहिष्कार को लेकर उप मुख्यमंत्री/माध्यमिक शिक्षा मंत्री को सम्बोधित एक ज्ञापन जिलाधिकारी और जिला विद्यालय निरीक्षक से भेजकर सरकार से मांग किया था कि इस महामारी को देखते हुये उत्तरपुस्तिकाओं का मूल्यांकन घर पर करने की अनुमति दी जाय। इससे शिक्षक भी सुरक्षित रहेंगे और मूल्यांकन कार्य भी पूर्ण हो जायेगा तथा लॉक डाउन का पालन भी होगा।
Deepak Jaiswal 7007529997, 9918557796
आप लोगों भरपूर सहयोग और प्यार की वजह से तेजस टूडे डॉट कॉम आज Google News और Dailyhunt जैसे बड़े प्लेटर्फाम पर जगह बना लिया है। आज इसकी पाठक संख्या लगातार बढ़ रही है और इसके लगभग 2 करोड़ विजिटर हो गये है। आपका प्यार ऐसे ही मिलता रहा तो यह पूर्वांचल के साथ साथ भारत में अपना एक अलग पहचान बना लेगा।