प्रधान की कार्यप्रणाली से ग्रामीण परेशान, तो किया ऐसा

जौनपुर। मड़ियाहूं तहसील क्षेत्र के पाली गांव में ग्राम प्रधान के कार्यप्रणाली से गांववासी में काफी नाराजगी है। वहीं एक तरफ गांव की गरीब महिलाओं को मनरेगा में काम करने के बाद भी अभी तक पैसे नहीं मिले जिससे इस लॉकडाउन में उनके घर चूल्हे तक नहीं जल रहे हैं। मनरेगा मजदूर विरंती, सीमा, उषा, रमई सहित अन्य का आरोप है कि मनरेगा में काम एक महीना से ज्यादा काम किया लेकिन अभी तक पैसा नहीं मिला। प्रधान से कहते हैं तो वह तरह—तरह की बात करते हैं। इस समय लॉकडाउन की वजह से हम लोग बाहर भी नहीं निकल पा रहे हैं। हमें अभी तक राशन भी नहीं मिला है। वहीं सुरेन्द्र कुमार यादव, राजेश यादव, रामजीत, अमरावती देवी, आशा, मेनिका, भुलेन्द्र कुमार आदि ने आरोप लगाया है कि ग्राम प्रधान गांव में मानक के वितरित कार्य कर रहे हैं। किसी भी गांववासी की समस्या को सुनते ही नहीं, उसे निवारण की बात तो बहुत दूर है। कम लागत में कार्य कराकर ज्यादा खर्च दिखाकर पैसे का बंदरबांट करते हैं। आरोप है कि तीन अप्रैल को कोटेदार द्वारा लोगों का अंगूठा लगवा लिया गया लेकिन अभी तक उन्हें राशन नहीं दिया गया। ग्रामीणों द्वारा कई बार तहसील से लेकर जिला प्रशासन को प्रधान के कार्यप्रणाली से अवगत करा चुके हैं लेकिन अभी तक कोई कार्रवाई नहीं हुई। ग्रामीणों ने उक्त प्रधान के खिलाफ कार्रवाई व जांच के लिए प्रशासन से मांग किया है।

जौनपुर। मड़ियाहूं तहसील क्षेत्र के पाली गांव में ग्राम प्रधान के कार्यप्रणाली से गांववासी में काफी नाराजगी है। वहीं एक तरफ गांव की गरीब महिलाओं को मनरेगा में काम करने के बाद भी अभी तक पैसे नहीं मिले जिससे इस लॉकडाउन में उनके घर चूल्हे तक नहीं जल रहे हैं।
मनरेगा मजदूर विरंती, सीमा, उषा, रमई सहित अन्य का आरोप है कि मनरेगा में काम एक महीना से ज्यादा काम किया लेकिन अभी तक पैसा नहीं मिला। प्रधान से कहते हैं तो वह तरह—तरह की बात करते हैं। इस समय लॉकडाउन की वजह से हम लोग बाहर भी नहीं निकल पा रहे हैं। हमें अभी तक राशन भी नहीं मिला है।

वहीं सुरेन्द्र कुमार यादव, राजेश यादव, रामजीत, अमरावती देवी, आशा, मेनिका, भुलेन्द्र कुमार आदि ने आरोप लगाया है कि ग्राम प्रधान गांव में मानक के वितरित कार्य कर रहे हैं। किसी भी गांववासी की समस्या को सुनते ही नहीं, उसे निवारण की बात तो बहुत दूर है। कम लागत में कार्य कराकर ज्यादा खर्च दिखाकर पैसे का बंदरबांट करते हैं। आरोप है कि तीन अप्रैल को कोटेदार द्वारा लोगों का अंगूठा लगवा लिया गया लेकिन अभी तक उन्हें राशन नहीं दिया गया।

ग्रामीणों द्वारा कई बार तहसील से लेकर जिला प्रशासन को प्रधान के कार्यप्रणाली से अवगत करा चुके हैं लेकिन अभी तक कोई कार्रवाई नहीं हुई। ग्रामीणों ने उक्त प्रधान के खिलाफ कार्रवाई व जांच के लिए प्रशासन से मांग किया है।