राशन मांगने गए श्रमिक को प्रधान ने गाली और धक्का देकर भगाया

थानागद्दी, जौनपुर। क्षेत्र के कानुवानी गांव के एक श्रमिक को प्रधान के यहां राशन मांगना भारी पड़ गया। राशन देने की बजाय उसे प्रधान द्वारा गाली और धक्का देकर भाग दिया गया। जिसका वीडियो भी वायरल हो रहा है। मामले में श्रमिक ने जिलाधिकारी से राशन दिलाने की गुहार लगाई है। वही प्रधान की इस दबंगई से पूरा गांव परेशान है। प्राप्त जानकारी के अनुसार ग्राम सभा कनवानी के राजीव विश्वकर्मा का आरोप है कि मजदूरी करके वह अपना जीवन यापन करता है और उसका श्रमिक पंजीयन संख्या 09655200060442 है बताया कि इस विपत्ति के समय माननीय मुख्यमंत्री जी द्वारा गरीबो को खाद्य सुविधा उपलब्ध कराने के लिए आदेश दिए गए है, जिसका आज हमारे ग्राम सभा के ग्राम प्रधान वितरण कर रहे थे। मुझे ज्ञात होने पर मै ग्राम प्रधान के यहाँ गया जहा जाने पे मैंने देखा के ग्राम प्रधान उपलब्ध कराये गए खाद्य सामग्री को कुछ खास लोगों को वितरित कर रहे थे जो की उपयुक्त प्रार्थी भी नही है। मेरे पूछने पे मुझे मना कर दिया तथा मेरे साथ अभद्र व्यवहार किया तथा ग्राम में जो श्रमिको के लिए जॉब कार्ड बने है वो भी उन्ही के बिरादरी के ज्यादा है। जबकि हमारे ग्राम सभा में जो गरीब मजदुर मुसहर ज्यादा है उनका कोई जॉब कार्ड नही बना है। पीड़ित ने जिलाधिकारी ने यहा पत्रक देकर राशन दिलाने की गुहार लगाई है, वहीं इस मामले में प्रधान खरभान पटेल का कहना है कि आरोप गलत है सभी को राशन दिया जा रहा है।

थानागद्दी, जौनपुर। क्षेत्र के कानुवानी गांव के एक श्रमिक को प्रधान के यहां राशन मांगना भारी पड़ गया। राशन देने की बजाय उसे प्रधान द्वारा गाली और धक्का देकर भाग दिया गया। जिसका वीडियो भी वायरल हो रहा है। मामले में श्रमिक ने जिलाधिकारी से राशन दिलाने की गुहार लगाई है। वही प्रधान की इस दबंगई से पूरा गांव परेशान है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार ग्राम सभा कनवानी के राजीव विश्वकर्मा का आरोप है कि मजदूरी करके वह अपना जीवन यापन करता है और उसका श्रमिक पंजीयन संख्या 09655200060442 है बताया कि इस विपत्ति के समय माननीय मुख्यमंत्री जी द्वारा गरीबो को खाद्य सुविधा उपलब्ध कराने के लिए आदेश दिए गए है, जिसका आज हमारे ग्राम सभा के ग्राम प्रधान वितरण कर रहे थे। मुझे ज्ञात होने पर मै ग्राम प्रधान के यहाँ गया जहा जाने पे मैंने देखा के ग्राम प्रधान उपलब्ध कराये गए खाद्य सामग्री को कुछ खास लोगों को वितरित कर रहे थे जो की उपयुक्त प्रार्थी भी नही है।

मेरे पूछने पे मुझे मना कर दिया तथा मेरे साथ अभद्र व्यवहार किया तथा ग्राम में जो श्रमिको के लिए जॉब कार्ड बने है वो भी उन्ही के बिरादरी के ज्यादा है। जबकि हमारे ग्राम सभा में जो गरीब मजदुर मुसहर ज्यादा है उनका कोई जॉब कार्ड नही बना है। पीड़ित ने जिलाधिकारी ने यहा पत्रक देकर राशन दिलाने की गुहार लगाई है, वहीं इस मामले में प्रधान खरभान पटेल का कहना है कि आरोप गलत है सभी को राशन दिया जा रहा है।