प्रसव पीड़ा से कराह रही बेजुबान का किया गया ऑपरेशन

सुइथाकला, जौनपुर। विकासखण्ड क्षेत्र स्थित राजकीय पशु चिकित्सालय अढ़नपुर में पशु चिकित्सक के रूप में तैनात डा. आलोक सिंह पालीवाल क्षेत्र में बेजुबानों के मसीहा के रूप में जाने जाते हैं। पशुओं की शल्यचिकित्सा में उन्हें महारत हासिल है क्षेत्र के हीं नहीं बल्कि गैर जनपद के पशुओं का भी सफल आपरेशन इनके द्वारा किया जा चुका है। जानकारी के अनुसार स्थानीय क्षेत्र के बासगाँव निवासी मोहम्मद नईम की बकरी कई दिन से प्रसव पीड़ा से कराह रही थी। बकरी पालक ने डा. पालीवाल से फोन पर बकरी की हालत बताई। चिकित्सक ने लाकडाउन में मानवीय संवेदना की मिशाल कायम की और अपनी जिम्मेदारी का निर्वहन करते हुए आपरेशन से मेमने को बाहर निकालकर बकरी की जान बचाई।

सुइथाकला, जौनपुर। विकासखण्ड क्षेत्र स्थित राजकीय पशु चिकित्सालय अढ़नपुर में पशु चिकित्सक के रूप में तैनात डा. आलोक सिंह पालीवाल क्षेत्र में बेजुबानों के मसीहा के रूप में जाने जाते हैं। पशुओं की शल्यचिकित्सा में उन्हें महारत हासिल है क्षेत्र के हीं नहीं बल्कि गैर जनपद के पशुओं का भी सफल आपरेशन इनके द्वारा किया जा चुका है। जानकारी के अनुसार स्थानीय क्षेत्र के बासगाँव निवासी मोहम्मद नईम की बकरी कई दिन से प्रसव पीड़ा से कराह रही थी। बकरी पालक ने डा. पालीवाल से फोन पर बकरी की हालत बताई। चिकित्सक ने लाकडाउन में मानवीय संवेदना की मिशाल कायम की और अपनी जिम्मेदारी का निर्वहन करते हुए आपरेशन से मेमने को बाहर निकालकर बकरी की जान बचाई।