अब स्वाभिमानियों का मददगार बना ‘जेब्रा’: संजय सेठ

लोगों के  लिये अन्नपूर्णा प्रसाद साबित हो रहा ‘जेब्रा बैग’ जौनपुर। कोरोना वायरस रूपी वैश्विक महामारी के चलते लॉक डाउन के तीसरे और अब चौथे चरण में जरूरतमन्दों का बड़ा मददगार बन गया रचनात्मक व सामाजिक संगठन ‘जेब्रा फाउण्डेशन ट्रस्ट’ जो लोगों के लिये ‘जेब्रा बैग’ मां अन्नपूर्णा का प्रसाद जैसा साबित हो रहा है। संगठन का सूत्र वाक्य है...आशा की ज्योति जिस पर अमल करते हुये संगठन के निःस्वार्थ कर्मयोगी स्वयं को खरा साबित करने में तन, मन व धन से जुटे हुये हैं। संगठन से जुड़े लोग स्वयं और समाज से सरोकार रखने वाले शुभेच्छुओं के माध्यम से रोजाना ऐसे 20-25 स्वाभिमानियों को चिह्नित करते हैं, फिर उसके आत्मसम्मान का पूरा ख्याल करते हुये उन्हें ‘जेब्रा बैग’ उपलब्ध करा रहे हैं। न कोई दिखावा है और न ही फोटोग्राफी जिससे उसे स्वीकारने में झिझक महसूस हो। संस्थाध्यक्ष संजय सेठ, विजयंत सोंथालिया, अनन्त श्रीवास्तव, अमरनाथ सेठ, रवि कुमार, मनोज विश्वकर्मा, मो. तौफीक, आशीष बाधवा, नीरज शाह, तथागत सेठ आदि पूरे मनोयोग से यह कार्य कर रहे हैं। बता दें कि लॉक डाउन के पहले दो चरणों में संगठन घर-घर अलसुबह अखबार लेकर पहुंचने वाले कर्मयोगियों, कोरोना वॉरियर रूपी पुलिस के जवानों, सफाईकर्मियों को जलपान कराने के साथ सड़कों पर घूमने वाले बेसहारा जानवरों का भी पेट भरा जा चुका है। संस्थाध्यक्ष श्री सेठ ने बताया कि जेब्रा बैग में आटा 5 किलो, चावल 2 किलो, अरहर दाल 1 किलो, सोयाबीन नट्स 250 ग्राम, सरसो का तेल 500 ग्राम, गुड़ 500 ग्राम, गरम मसाला एक पैकेट, नमक 500 ग्राम, आलू, कोहड़ा व प्याज शामिल है।

लोगों के लिये अन्नपूर्णा प्रसाद साबित हो रहा ‘जेब्रा बैग’

जौनपुर। कोरोना वायरस रूपी वैश्विक महामारी के चलते लॉक डाउन के तीसरे और अब चौथे चरण में जरूरतमन्दों का बड़ा मददगार बन गया रचनात्मक व सामाजिक संगठन ‘जेब्रा फाउण्डेशन ट्रस्ट’ जो लोगों के लिये ‘जेब्रा बैग’ मां अन्नपूर्णा का प्रसाद जैसा साबित हो रहा है।

संगठन का सूत्र वाक्य है…आशा की ज्योति जिस पर अमल करते हुये संगठन के निःस्वार्थ कर्मयोगी स्वयं को खरा साबित करने में तन, मन व धन से जुटे हुये हैं। संगठन से जुड़े लोग स्वयं और समाज से सरोकार रखने वाले शुभेच्छुओं के माध्यम से रोजाना ऐसे 20-25 स्वाभिमानियों को चिह्नित करते हैं, फिर उसके आत्मसम्मान का पूरा ख्याल करते हुये उन्हें ‘जेब्रा बैग’ उपलब्ध करा रहे हैं। न कोई दिखावा है और न ही फोटोग्राफी जिससे उसे स्वीकारने में झिझक महसूस हो।

संस्थाध्यक्ष संजय सेठ, विजयंत सोंथालिया, अनन्त श्रीवास्तव, अमरनाथ सेठ, रवि कुमार, मनोज विश्वकर्मा, मो. तौफीक, आशीष बाधवा, नीरज शाह, तथागत सेठ आदि पूरे मनोयोग से यह कार्य कर रहे हैं। बता दें कि लॉक डाउन के पहले दो चरणों में संगठन घर-घर अलसुबह अखबार लेकर पहुंचने वाले कर्मयोगियों, कोरोना वॉरियर रूपी पुलिस के जवानों, सफाईकर्मियों को जलपान कराने के साथ सड़कों पर घूमने वाले बेसहारा जानवरों का भी पेट भरा जा चुका है। संस्थाध्यक्ष श्री सेठ ने बताया कि जेब्रा बैग में आटा 5 किलो, चावल 2 किलो, अरहर दाल 1 किलो, सोयाबीन नट्स 250 ग्राम, सरसो का तेल 500 ग्राम, गुड़ 500 ग्राम, गरम मसाला एक पैकेट, नमक 500 ग्राम, आलू, कोहड़ा व प्याज शामिल है।

  लोगों के लिये अन्नपूर्णा प्रसाद साबित हो रहा ‘जेब्रा बैग’  जौनपुर। कोरोना वायरस रूपी वैश्विक महामारी के चलते लॉक डाउन के तीसरे और अब चौथे चरण में जरूरतमन्दों का बड़ा मददगार बन गया रचनात्मक व सामाजिक संगठन ‘जेब्रा फाउण्डेशन ट्रस्ट’ जो लोगों के लिये ‘जेब्रा बैग’ मां अन्नपूर्णा का प्रसाद जैसा साबित हो रहा है। संगठन का सूत्र वाक्य है...आशा की ज्योति जिस पर अमल करते हुये संगठन के निःस्वार्थ कर्मयोगी स्वयं को खरा साबित करने में तन, मन व धन से जुटे हुये हैं। संगठन से जुड़े लोग स्वयं और समाज से सरोकार रखने वाले शुभेच्छुओं के माध्यम से रोजाना ऐसे 20-25 स्वाभिमानियों को चिह्नित करते हैं, फिर उसके आत्मसम्मान का पूरा ख्याल करते हुये उन्हें ‘जेब्रा बैग’ उपलब्ध करा रहे हैं। न कोई दिखावा है और न ही फोटोग्राफी जिससे उसे स्वीकारने में झिझक महसूस हो। संस्थाध्यक्ष संजय सेठ, विजयंत सोंथालिया, अनन्त श्रीवास्तव, अमरनाथ सेठ, रवि कुमार, मनोज विश्वकर्मा, मो. तौफीक, आशीष बाधवा, नीरज शाह, तथागत सेठ आदि पूरे मनोयोग से यह कार्य कर रहे हैं। बता दें कि लॉक डाउन के पहले दो चरणों में संगठन घर-घर अलसुबह अखबार लेकर पहुंचने वाले कर्मयोगियों, कोरोना वॉरियर रूपी पुलिस के जवानों, सफाईकर्मियों को जलपान कराने के साथ सड़कों पर घूमने वाले बेसहारा जानवरों का भी पेट भरा जा चुका है। संस्थाध्यक्ष श्री सेठ ने बताया कि जेब्रा बैग में आटा 5 किलो, चावल 2 किलो, अरहर दाल 1 किलो, सोयाबीन नट्स 250 ग्राम, सरसो का तेल 500 ग्राम, गुड़ 500 ग्राम, गरम मसाला एक पैकेट, नमक 500 ग्राम, आलू, कोहड़ा व प्याज शामिल है।
Deepak Jaiswal 7007529997, 9918557796
आप लोगों भरपूर सहयोग और प्यार की वजह से तेजस टूडे डॉट कॉम आज Google News और Dailyhunt जैसे बड़े प्लेटर्फाम पर जगह बना लिया है। आज इसकी पाठक संख्या लगातार बढ़ रही है और इसके लगभग 2 करोड़ विजिटर हो गये है। आपका प्यार ऐसे ही मिलता रहा तो यह पूर्वांचल के साथ साथ भारत में अपना एक अलग पहचान बना लेगा।