शरारती तत्वों ने गेहूं की फसल में लगाई आग फसल हुई बर्बाद

मुस्ताक आलम मिर्जामुराद, वाराणसी। स्थानीय क्षेत्र मिर्जामुराद थाना के बेनीपुर चंगवार गांव के किसान ओम प्रकाश पटेल ने गेहूं की मड़ाई हेतु 125 बोझ इकट्ठा करके रखे थे, कि गांव के कुछ मन बढ़ शरारती तत्व माचिस की तीली से आग लगाकर गेहूं की फसल को जलाकर राख कर दिए। प्रत्यक्ष रूप से जब एक महिला ने सभी शरारती तत्वों को मना किया। तब भी शरारती तत्व नहीं माने ।इस बात की शिकायत जब किसान ओम प्रकाश पटेल ने थाना मिर्जामुराद में जाकर थाना प्रभारी को सारी बातें बताएं, लेकिन थाना प्रभारी पर स्थानीय विधायक का फोन आ जाने से किसान की रिपोर्ट नहीं लिखी गई। ना ही कोई सुनवाई हुई। सभी जलाने वाले मन बढ़ युवक स्थानीय विधायक के कार्य करते है। स्थानीय विधायक के दबाव में रिपोर्ट दर्ज नहीं हुई। जिससे ग्रामीणों में रोष व्याप्त है। जब किसान अपने घर पर वापस चला आया तो किसान को चौकी खजूरी पर बुलाकर चौकी प्रभारी द्वारा सुलह के लिए किसान के ऊपर दबाव बनाया गया। आज जब देश कोरोना वायरस को लेकर परेशान है और एक किसान अपने तैयार फसल के नुकसान से भूखों मरने के कगार पर खड़ा हो गया है। किसान ने कहां है कि अगर थाना प्रभारी मेरी बात को नहीं सुनते हैं तो मैं आला अधिकारियों के पास जाऊंगा।

मुस्ताक आलम
मिर्जामुराद, वाराणसी। स्थानीय क्षेत्र मिर्जामुराद थाना के बेनीपुर चंगवार गांव के किसान ओम प्रकाश पटेल ने गेहूं की मड़ाई हेतु 125 बोझ इकट्ठा करके रखे थे, कि गांव के कुछ मन बढ़ शरारती तत्व माचिस की तीली से आग लगाकर गेहूं की फसल को जलाकर राख कर दिए। प्रत्यक्ष रूप से जब एक महिला ने सभी शरारती तत्वों को मना किया।

तब भी शरारती तत्व नहीं माने। इस बात की शिकायत जब किसान ओम प्रकाश पटेल ने थाना मिर्जामुराद में जाकर थाना प्रभारी को सारी बातें बताएं, लेकिन थाना प्रभारी पर स्थानीय विधायक का फोन आ जाने से किसान की रिपोर्ट नहीं लिखी गई। ना ही कोई सुनवाई हुई। सभी जलाने वाले मन बढ़ युवक स्थानीय विधायक के कार्य करते है। स्थानीय विधायक के दबाव में रिपोर्ट दर्ज नहीं हुई।

वाराणसी : आप ने राष्ट्रपति से की एस बैंक प्रकरण की जांच करने की मांग

जिससे ग्रामीणों में रोष व्याप्त है। जब किसान अपने घर पर वापस चला आया तो किसान को चौकी खजूरी पर बुलाकर चौकी प्रभारी द्वारा सुलह के लिए किसान के ऊपर दबाव बनाया गया। आज जब देश कोरोना वायरस को लेकर परेशान है और एक किसान अपने तैयार फसल के नुकसान से भूखों मरने के कगार पर खड़ा हो गया है। किसान ने कहां है कि अगर थाना प्रभारी मेरी बात को नहीं सुनते हैं तो मैं आला अधिकारियों के पास जाऊंगा।