कोटेदार ने पार की भ्रष्टाचार की सारी हदें, शासन प्रशासन मस्त जनता त्रस्त

चंदन अग्रहरि शाहगंज जौनपुर। स्थानीय तहसील क्षेत्र के हुसेनाबाद के कोटेदार ने पार की भ्रटाचार की सारी हदें। शासन प्रशासन मस्त जनता त्रस्त। प्राप्त जानकारी के अनुसार तहसील क्षेत्र के ग्राम हुसेनाबाद में ग्रामीणों ने कोटेदार पर आरोप लगाया है कि कोटेदार मानक के अनुरूप राशन वितरित नहीं कर रहे है। यूनिट के अनुसार प्रत्येक राशन कार्ड पर दो से तीन किलो तक राशन कम दे रहे हैं और जाब कार्ड वालों और अंत्योदय कार्ड वालों से भी पैसा वसूल कर राशन दिया जा रहा है। आपत्ती करने पर कोटेदार रामलाल व उसके अनुययियों द्वारा गंदी गंदी गालियां देकर कार्ड धारकों को भगा दिया जाता है। इसकी सूचना दो दिन पहले उप जिलाधिकारी को ग्राम वासियों ने दी जिसमें उप जिलाधिकारी ने संबंधित अधिकारी व पुलिस फोर्स मौके पर भेज कर राशन वितरित कराया गया था। जिसमें सोशल डिस्टेंसिंग की खुले आम धज्जिया उड़ी थी। ग्रामीणों द्वारा कोटेदार पर लगाए गए आरोपों पर उप जिलाधिकारी ने बताया की कोटे दार के खिलाफ जांच चल रही है। दो तीन दिन में नायब तहसीलदार जांच कर रिपोर्ट देंगे रिपोर्ट में अगर कोटेदार के द्वारा राशन वितरण या किसी प्रकार की गलती पाई जाती है या ग्रामवासियों द्वारा लगाए गए आरोप सत्य पाए जाते है तो। कोटेदार के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। जहां एक तरफ जनता लाक डॉउन में खाने पीने की व्यवस्था में त्रस्त है वहीं कोटेदार के इस कृत्य से ग्राम वासियों में काफी रोष देखा जा रहा है।

चंदन अग्रहरि
शाहगंज जौनपुर। स्थानीय तहसील क्षेत्र के हुसेनाबाद के कोटेदार ने पार की भ्रटाचार की सारी हदें। शासन प्रशासन मस्त जनता त्रस्त। प्राप्त जानकारी के अनुसार तहसील क्षेत्र के ग्राम हुसेनाबाद में ग्रामीणों ने कोटेदार पर आरोप लगाया है कि कोटेदार मानक के अनुरूप राशन वितरित नहीं कर रहे है। यूनिट के अनुसार प्रत्येक राशन कार्ड पर दो से तीन किलो तक राशन कम दे रहे हैं और जाब कार्ड वालों और अंत्योदय कार्ड वालों से भी पैसा वसूल कर राशन दिया जा रहा है।

आपत्ती करने पर कोटेदार रामलाल व उसके अनुययियों द्वारा गंदी गंदी गालियां देकर कार्ड धारकों को भगा दिया जाता है। इसकी सूचना दो दिन पहले उप जिलाधिकारी को ग्राम वासियों ने दी जिसमें उप जिलाधिकारी ने संबंधित अधिकारी व पुलिस फोर्स मौके पर भेज कर राशन वितरित कराया गया था। जिसमें सोशल डिस्टेंसिंग की खुले आम धज्जिया उड़ी थी।

ग्रामीणों द्वारा कोटेदार पर लगाए गए आरोपों पर उप जिलाधिकारी ने बताया की कोटे दार के खिलाफ जांच चल रही है। दो तीन दिन में नायब तहसीलदार जांच कर रिपोर्ट देंगे रिपोर्ट में अगर कोटेदार के द्वारा राशन वितरण या किसी प्रकार की गलती पाई जाती है या ग्रामवासियों द्वारा लगाए गए आरोप सत्य पाए जाते है तो। कोटेदार के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। जहां एक तरफ जनता लाक डॉउन में खाने पीने की व्यवस्था में त्रस्त है वहीं कोटेदार के इस कृत्य से ग्राम वासियों में काफी रोष देखा जा रहा है।