गरीबों की मदद के लिये पत्रकारों ने भी बढ़ाये हाथ

जौनपुर। कोरोना वायरस के चलते हुई महामारी में परेशान लोगों के लिये पूंजीपतियों, व्यवसाइयों, स्वयंसेवी संगठनों के साथ अब पत्रकारों का दल भी गरीबों की मदद के लिये मैदान में कूद पड़ा है। कुछ लोगों को छोड़कर शेष द्वारा केवल समाचार पत्रों में प्रकाशित होने के लिये सेवा कार्य किये जाने से खिन्न पत्रकारों द्वारा वास्तव में जरूरतमन्दों की भूख मिटाई जा रही है। पत्रकार गुलजार अली, प्रदीप सिंह, प्रवीण कुमार, कृपाशंकर यादव, दिनेश सिंह, मोहम्मद जावेद सहित तताम पत्रकारों ने छातीडीह मुसहर बस्ती, रेहटी, केराकत पुल के पास बंजारा बस्ती, थानागद्दी पुलिस चौकी के पीछे की बस्ती, थानागद्दी बाजार के पास गरीब बस्ती, ग्यासपुर की मुसहर बस्ती, नेवादा, रसूलपुर, मनहन, जौनपुर के स्टेशन मार्ग की गरीब बस्तियों में 2000 लंच पैकेटों का वितरण किया गया। पत्रकारों की इस मुहिम की अगुवाई कर रहे पंकज भूषण मिश्र ने बताया कि 14 अप्रैल तक इसी तरह गरीबों का सेवा कार्य चलेगा। साथ ही उन्होंने कहा कि वितरण के समय की कोई भी तस्वीर या वीडियो न सोशल मीडिया और न ही प्रिंट या इलेक्ट्रानिक मीडिया पर जारी की जायेगी। अगर कोई व्यक्ति या संगठन स्वेच्छा से इस मुहिम में सहयोग करना चाहेगा तो उसकी या उसके किसी प्रतिनिधि की उपस्थिति में लंच पैकेट बंटवाने की जिम्मेदारी भी यह टीम सहर्ष वहन करेगी।

जौनपुर। कोरोना वायरस के चलते हुई महामारी में परेशान लोगों के लिये पूंजीपतियों, व्यवसाइयों, स्वयंसेवी संगठनों के साथ अब पत्रकारों का दल भी गरीबों की मदद के लिये मैदान में कूद पड़ा है। कुछ लोगों को छोड़कर शेष द्वारा केवल समाचार पत्रों में प्रकाशित होने के लिये सेवा कार्य किये जाने से खिन्न पत्रकारों द्वारा वास्तव में जरूरतमन्दों की भूख मिटाई जा रही है।

 

पत्रकार गुलजार अली, प्रदीप सिंह, प्रवीण कुमार, कृपाशंकर यादव, दिनेश सिंह, मोहम्मद जावेद सहित तताम पत्रकारों ने छातीडीह मुसहर बस्ती, रेहटी, केराकत पुल के पास बंजारा बस्ती, थानागद्दी पुलिस चौकी के पीछे की बस्ती, थानागद्दी बाजार के पास गरीब बस्ती, ग्यासपुर की मुसहर बस्ती, नेवादा, रसूलपुर, मनहन, जौनपुर के स्टेशन मार्ग की गरीब बस्तियों में 2000 लंच पैकेटों का वितरण किया गया।

Jaunpur News : ज्ञान प्रकाश को मिली पीएचडी की उपाधि

पत्रकारों की इस मुहिम की अगुवाई कर रहे पंकज भूषण मिश्र ने बताया कि 14 अप्रैल तक इसी तरह गरीबों का सेवा कार्य चलेगा। साथ ही उन्होंने कहा कि वितरण के समय की कोई भी तस्वीर या वीडियो न सोशल मीडिया और न ही प्रिंट या इलेक्ट्रानिक मीडिया पर जारी की जायेगी। अगर कोई व्यक्ति या संगठन स्वेच्छा से इस मुहिम में सहयोग करना चाहेगा तो उसकी या उसके किसी प्रतिनिधि की उपस्थिति में लंच पैकेट बंटवाने की जिम्मेदारी भी यह टीम सहर्ष वहन करेगी।