दोहरी मार झेल रहे हैं वित्तविहीन शिक्षकः फौजदार सिंह

जौनपुर। उत्तर प्रदेश माध्यमिक वित्तविहीन शिक्षक महासभा के प्रान्तीय प्रधान महासचिव फौजदार सिंह अखिलेश ने प्रेस विज्ञप्ति के माध्यम से शुक्रवार को उत्तर प्रदेश सरकार से प्रदेश के वित्तविहीन शिक्षकों के लिये विशेष पैकेज की मांग किया। साथ ही बताया कि महामारी में आर्थिक रूप से परेशान वित्तविहीन शिक्षक दोहरी मार झेल रहे हैं। विद्यालयों में फीस नहीं आ रही है। प्रबन्धक वेतन देने में अपने आपको असहाय महसूस कर रहे हैं। कहीं-कहीं प्रबन्धकों ने मार्च महीने का मानदेय दिया है जबकि कई विद्यालय अभी तक वेतन नहीं दे पाये। सरकार का निर्देश है कि छात्रों से अभी फीस न ली जाय। जब जुलाई में स्कूल खुलेगा तब फीस क्रमवार ले लीजिएगा। ऐसे में वित्तविहीन शिक्षक भुखमरी के कगार पर हैं। श्री सिंह ने प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मांग किया कि ऐसे विकट समय में वित्तविहीन शिक्षकों के लिये भी पैकेज दें। 87 प्रतिशत भागीदारी करने वाले वित्तविहीन शिक्षकों के साथ यदि आपदा में साथ दिया तो समय आने पर सूत सहित कर्ज वापस करेंगे। उन्होंने शासन से मांग किया जब तक यह संकट समाप्त न हो जाय, तब तक मूल्यांकन केन्द्रों पर शिक्षकों को बोर्ड कापियों के मूल्यांकन कार्य हेतु न बुलाया जाय। उन्होंने कहा कि समय से परीक्षाफल देना छात्रहित में आवश्यक है परंतु शिक्षकों की जान जोखिम में डालकर ऐसा किया जाना उचित नहीं है। जिस प्रकार से सरकार मानवीय सम्वेदनाओं के तहत मनरेगा मजदूरों, दिव्यागजनों, महिलाओं आदि को लाभ पहुंचा रही है, उसी प्रकार वित्तविहीन शिक्षकों को विशेष आर्थिक सहायता पैकेज प्रदान किया जाय। उन्होंने बताया कि 20 अप्रैल से आनलाइन कक्षाओं का संचालन कैसे होगा। एक गरीब अपने घरों में कहां से स्मार्टफोन, एण्ड्राइड फोन व इण्टरनेट सुविधा लायेगा।

जौनपुर। उत्तर प्रदेश माध्यमिक वित्तविहीन शिक्षक महासभा के प्रान्तीय प्रधान महासचिव फौजदार सिंह अखिलेश ने प्रेस विज्ञप्ति के माध्यम से शुक्रवार को उत्तर प्रदेश सरकार से प्रदेश के वित्तविहीन शिक्षकों के लिये विशेष पैकेज की मांग किया। साथ ही बताया कि महामारी में आर्थिक रूप से परेशान वित्तविहीन शिक्षक दोहरी मार झेल रहे हैं। विद्यालयों में फीस नहीं आ रही है।

प्रबन्धक वेतन देने में अपने आपको असहाय महसूस कर रहे हैं। कहीं-कहीं प्रबन्धकों ने मार्च महीने का मानदेय दिया है जबकि कई विद्यालय अभी तक वेतन नहीं दे पाये। सरकार का निर्देश है कि छात्रों से अभी फीस न ली जाय। जब जुलाई में स्कूल खुलेगा तब फीस क्रमवार ले लीजिएगा। ऐसे में वित्तविहीन शिक्षक भुखमरी के कगार पर हैं। श्री सिंह ने प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मांग किया कि ऐसे विकट समय में वित्तविहीन शिक्षकों के लिये भी पैकेज दें।

शाहगंज जीआरपी व आरपीएफ जरूरतमन्दों की दिन-रात कर रहे सेवा

87 प्रतिशत भागीदारी करने वाले वित्तविहीन शिक्षकों के साथ यदि आपदा में साथ दिया तो समय आने पर सूत सहित कर्ज वापस करेंगे। उन्होंने शासन से मांग किया जब तक यह संकट समाप्त न हो जाय, तब तक मूल्यांकन केन्द्रों पर शिक्षकों को बोर्ड कापियों के मूल्यांकन कार्य हेतु न बुलाया जाय। उन्होंने कहा कि समय से परीक्षाफल देना छात्रहित में आवश्यक है परंतु शिक्षकों की जान जोखिम में डालकर ऐसा किया जाना उचित नहीं है।

जिस प्रकार से सरकार मानवीय सम्वेदनाओं के तहत मनरेगा मजदूरों, दिव्यागजनों, महिलाओं आदि को लाभ पहुंचा रही है, उसी प्रकार वित्तविहीन शिक्षकों को विशेष आर्थिक सहायता पैकेज प्रदान किया जाय। उन्होंने बताया कि 20 अप्रैल से आनलाइन कक्षाओं का संचालन कैसे होगा। एक गरीब अपने घरों में कहां से स्मार्टफोन, एण्ड्राइड फोन व इण्टरनेट सुविधा लायेगा।

आप लोगों भरपूर सहयोग और प्यार की वजह से तेजस टूडे डॉट कॉम आज Google News और Dailyhunt जैसे बड़े प्लेटर्फाम पर जगह बना लिया है। आज इसकी पाठक संख्या लगातार बढ़ रही है और इसके लगभग डेढ़ करोड़ विजिटर हो गये है। आपका प्यार ऐसे ही मिलता रहा तो यह पूर्वांचल के साथ साथ भारत में अपना एक अलग पहचान बना लेगा।
Deepak jaiswal 7007529997
आप लोगों भरपूर सहयोग और प्यार की वजह से तेजस टूडे डॉट कॉम आज Google News और Dailyhunt जैसे बड़े प्लेटर्फाम पर जगह बना लिया है। आज इसकी पाठक संख्या लगातार बढ़ रही है और इसके लगभग डेढ़ करोड़ विजिटर हो गये है। आपका प्यार ऐसे ही मिलता रहा तो यह पूर्वांचल के साथ साथ भारत में अपना एक अलग पहचान बना लेगा।