मनुवादी व रूढ़िवादी विचारधारा वाले कोरोना से भी खतरनाकः तूफानी सरोज

जौनपुर। मछलीशहर के पूर्व सांसद तूफानी सरोज ने दीपक जलाकर बाबा साहब डा. भीम राव अम्बेडकर का जन्मदिवस मनाया। साथ ही कहा कि संविधान के रचयिता बाबा साहब ने भारत जैसे देश का संविधान लिखा। उच्च शिक्षा हेतु ब्रिटेन व अमेरिका गये बाबा साहब शिक्षा ग्रहण करके जब वापस भारत आये तो उन्हें कई जगह नौकरी मिली लेकिन छुआछूत व भेदभाव के कारण उन्हें रहने के लिये कहीं भी किराये पर रूम नहीं मिला जिससे उन्हें नौकरी छोड़नी पड़ी। ऐसे में सर्वसमाज के लिये उन्होंने छुआछूत का विरोध किया। श्री सरोज ने भाजपा पर तंज कसते हुये कहा कि अखिलेश यादव जैसे महान नेता को मुख्यमंत्री पद से हटने पर यहां कुर्सी की धुलाई करते हुये गंगाजल छिड़का गया। यह मनुवादी सोच का परिचायक नहीं तो और क्या है। अन्त में उन्होंने महामारी पर जनता से अपील किया कि वह सरकारों के दिशा निर्देश का पालन करें और सोशल डिस्टेंस्टिंग का पालन करें। घर में रहें एवं बिना काम घर से बाहर न निकलें। साथ ही लॉक डाउन के नियमों का सख्ती से पालन करें।

जौनपुर। मछलीशहर के पूर्व सांसद तूफानी सरोज ने दीपक जलाकर बाबा साहब डा. भीम राव अम्बेडकर का जन्मदिवस मनाया। साथ ही कहा कि संविधान के रचयिता बाबा साहब ने भारत जैसे देश का संविधान लिखा। उच्च शिक्षा हेतु ब्रिटेन व अमेरिका गये बाबा साहब शिक्षा ग्रहण करके जब वापस भारत आये तो उन्हें कई जगह नौकरी मिली लेकिन छुआछूत व भेदभाव के कारण उन्हें रहने के लिये कहीं भी किराये पर रूम नहीं मिला जिससे उन्हें नौकरी छोड़नी पड़ी।

ऐसे में सर्वसमाज के लिये उन्होंने छुआछूत का विरोध किया। श्री सरोज ने भाजपा पर तंज कसते हुये कहा कि अखिलेश यादव जैसे महान नेता को मुख्यमंत्री पद से हटने पर यहां कुर्सी की धुलाई करते हुये गंगाजल छिड़का गया। यह मनुवादी सोच का परिचायक नहीं तो और क्या है। अन्त में उन्होंने महामारी पर जनता से अपील किया कि वह सरकारों के दिशा निर्देश का पालन करें और सोशल डिस्टेंस्टिंग का पालन करें। घर में रहें एवं बिना काम घर से बाहर न निकलें। साथ ही लॉक डाउन के नियमों का सख्ती से पालन करें।