विकास के नाम पर 50 लाख प्रधान ने किया हड़प्पा

चंदन अग्रहरि जौनपुर। शाहगंज तहसील के ग्राम छतौरा में विकास के नाम पर भारी पैमाने पर सरकारी धन का बन्दरबांट प्रधान एवं उनके सहयोगियों द्वारा किया गया है। गांव के विकास के नाम पर तमाम फर्जी निर्माण कार्यो को कागजों पर दर्शाते हुए पिछले पांच साल में पचास लाख से अधिक धन का खेल कर दिया गया है। इसके खिलाफ जो आवाज उठाता है उसे धमकी देकर शान्त करा दिया जाता है। ग्रामीणों का आरोप है कि सरकारी धन के गोलमाल में 10 से अधिक अमीरों को अंन्त्योंदय कार्ड बनाये गये है जबकि तीन दर्जन से अधिक संपन्न लोगों का मनरेगा का कार्ड बनाकर गोलमाल किया जा रहा है। कुछ नाम मात्र के कार्यो को ठेके पर कराकर अधिकतम धनराशि मजदूरों के खाते में भेजकर हड़प लिया जाता है। जबकि दर्जनों पात्रों को अन्त्योदय कार्ड न बनाकर उनका कार्ड पात्र गृहस्थी के तहत बनाया गया है। लूट पाट का आलम यह है कि गांव में एक दो सोलर लाइट लगवा कर सवा लाख का भुगतान कराया गया है। मेन रोड से राम अचल मौर्या के घर तक खड़न्जा का कार्य दिखाकर एक लाख 36 हजार रूपया निकाल लिया गया है। इसी प्रकार मेवा लाल के घर तक खडन्जा निर्माण दिखाकर दो लाख रूपया हड़प लिया गया है। एक काम का तीन तीन बार भुगतान दिखाया गया है। इसी तरह बिन्दू हरिजन के घर से नाली निर्माण दिखाकर एक लाख 15 हजार रूपये का चूना लगाया गया है। गांव में आवश्यक स्थानों पर खण्डन्जा न लगवा कर ग्राम प्रधान ने अपाने और कोटेदार के आने जाने के लिए खण्डन्जा लगवाया है जबकि गरीबों के घर खण्डन्जा लगवाने से परहेज किया गया है। ग्रामीणों ने जिलाधिकारी से मांग किया है कि छतौरा गांव के विकास की पूरी निष्पक्ष जांच कराकर दोषी लोगों के खिलाफ कार्यवाही की जाय।

चंदन अग्रहरि
जौनपुर। शाहगंज तहसील के ग्राम छतौरा में विकास के नाम पर भारी पैमाने पर सरकारी धन का बन्दरबांट प्रधान एवं उनके सहयोगियों द्वारा किया गया है। गांव के विकास के नाम पर तमाम फर्जी निर्माण कार्यो को कागजों पर दर्शाते हुए पिछले पांच साल में पचास लाख से अधिक धन का खेल कर दिया गया है। इसके खिलाफ जो आवाज उठाता है उसे धमकी देकर शान्त करा दिया जाता है।

ग्रामीणों का आरोप है कि सरकारी धन के गोलमाल में 10 से अधिक अमीरों को अंन्त्योंदय कार्ड बनाये गये है जबकि तीन दर्जन से अधिक संपन्न लोगों का मनरेगा का कार्ड बनाकर गोलमाल किया जा रहा है। कुछ नाम मात्र के कार्यो को ठेके पर कराकर अधिकतम धनराशि मजदूरों के खाते में भेजकर हड़प लिया जाता है। जबकि दर्जनों पात्रों को अन्त्योदय कार्ड न बनाकर उनका कार्ड पात्र गृहस्थी के तहत बनाया गया है।

लूट पाट का आलम यह है कि गांव में एक दो सोलर लाइट लगवा कर सवा लाख का भुगतान कराया गया है। मेन रोड से राम अचल मौर्या के घर तक खड़न्जा का कार्य दिखाकर एक लाख 36 हजार रूपया निकाल लिया गया है। इसी प्रकार मेवा लाल के घर तक खडन्जा निर्माण दिखाकर दो लाख रूपया हड़प लिया गया है।

एक काम का तीन तीन बार भुगतान दिखाया गया है। इसी तरह बिन्दू हरिजन के घर से नाली निर्माण दिखाकर एक लाख 15 हजार रूपये का चूना लगाया गया है। गांव में आवश्यक स्थानों पर खण्डन्जा न लगवा कर ग्राम प्रधान ने अपाने और कोटेदार के आने जाने के लिए खण्डन्जा लगवाया है जबकि गरीबों के घर खण्डन्जा लगवाने से परहेज किया गया है। ग्रामीणों ने जिलाधिकारी से मांग किया है कि छतौरा गांव के विकास की पूरी निष्पक्ष जांच कराकर दोषी लोगों के खिलाफ कार्यवाही की जाय।