क्वारेंटाइन किये गये 16 लोग औरेया से पहुंचे मछलीशहर

बताये गये- 11 लोग भदोही और 5 मिर्जापुर के हैं निवासी जौनपुर। औरेया जनपद के अजीतमल में क्वारेंटाइन किये गये संत रविदासनगर (भदोही) और मिर्जापुर के 16 लोग रोडवेज बस से अपने घरों के लिये रवाना किये गये। दोपहर में लगभग 12 बजे बस इन यात्रियों को लेकर जब मछलीशहर के मीरपुर तिराहे पर पहुंची तो वहां लगे एक हैण्डपम्प पर रोक करके कुछ लोग पानी पीने उतरे थे। सभी के शरीर तो थके हुये थे लेकिन घर पहुंचने का उत्साह चेहरे पर दिखायी पड़ रहा था। साथ चल रहे सिपाही श्रीकान्त ने बताया कि सभी को लंच पैकेट वहीं से बनाकर दिया गया था। रास्ते में कुछ सामाजिक कार्यकर्ताओं ने लाई, चना, गुड़ आदि का पैकेट भी भेंट किया था। अधिकांश यात्रियों ने कहा कि उनके पास एक भी पैसा नहीं बचा है लेकिन घर जाने की खुशी इतनी ज्यादा है कि भूख-प्यास पता नहीं चल रही है।

बताये गये- 11 लोग भदोही और 5 मिर्जापुर के हैं निवासी

जौनपुर। औरेया जनपद के अजीतमल में क्वारेंटाइन किये गये संत रविदासनगर (भदोही) और मिर्जापुर के 16 लोग रोडवेज बस से अपने घरों के लिये रवाना किये गये। दोपहर में लगभग 12 बजे बस इन यात्रियों को लेकर जब मछलीशहर के मीरपुर तिराहे पर पहुंची तो वहां लगे एक हैण्डपम्प पर रोक करके कुछ लोग पानी पीने उतरे थे। सभी के शरीर तो थके हुये थे लेकिन घर पहुंचने का उत्साह चेहरे पर दिखायी पड़ रहा था।

साथ चल रहे सिपाही श्रीकान्त ने बताया कि सभी को लंच पैकेट वहीं से बनाकर दिया गया था। रास्ते में कुछ सामाजिक कार्यकर्ताओं ने लाई, चना, गुड़ आदि का पैकेट भी भेंट किया था। अधिकांश यात्रियों ने कहा कि उनके पास एक भी पैसा नहीं बचा है लेकिन घर जाने की खुशी इतनी ज्यादा है कि भूख-प्यास पता नहीं चल रही है।

 

आप लोगों भरपूर सहयोग और प्यार की वजह से तेजस टूडे डॉट कॉम आज Google News और Dailyhunt जैसे बड़े प्लेटर्फाम पर जगह बना लिया है। आज इसकी पाठक संख्या लगातार बढ़ रही है और इसके लगभग डेढ़ करोड़ विजिटर हो गये है। आपका प्यार ऐसे ही मिलता रहा तो यह पूर्वांचल के साथ साथ भारत में अपना एक अलग पहचान बना लेगा।
deepak jaiswal
आप लोगों भरपूर सहयोग और प्यार की वजह से तेजस टूडे डॉट कॉम आज Google News और Dailyhunt जैसे बड़े प्लेटर्फाम पर जगह बना लिया है। आज इसकी पाठक संख्या लगातार बढ़ रही है और इसके लगभग डेढ़ करोड़ विजिटर हो गये है। आपका प्यार ऐसे ही मिलता रहा तो यह पूर्वांचल के साथ साथ भारत में अपना एक अलग पहचान बना लेगा।